Home Entertainment 10 बेहतरीन अभिनेता जिन्होंने बॉलीवुड में ‘हीरो’ की परिभाषा को बदलकर रख...

10 बेहतरीन अभिनेता जिन्होंने बॉलीवुड में ‘हीरो’ की परिभाषा को बदलकर रख दिया

0

भारतीय सिनेमा अपनी मसाला फिल्मों, नायक-नायिका के रोमांस, खलनायक की भूमिकाओं और सदाबहार गानों के लिए जाना जाता है.यहाँ फ़िल्में मुख्यतः नायक केन्द्रित ही बनती हैं जिसमे एक स्मार्ट लुक वाले और अच्छी कद-काठी के हीरो का होना ज्यादा जरुरी है भले ही अभिनय के मामले में वह अपरिपक्व हो.

बॉलीवुड में समय के साथ एक समानांतर सिनेमा का भी दौर आया जब कुछ बेहतरीन कलाकार इस फिल्म इंडस्ट्री में आये और जिन्होंने अपने अभिनय से वर्षों से चली आ रही ‘हीरो’ की परिभाषा को ही बदल दिया. आज हम बात करते हैं बॉलीवुड के ऐसे ही 10 अति-प्रतिभाशाली अभिनेताओं की जिनका अंदाज ही कुछ अलग है…

10. राजकुमार राव 

साल 2010 में फिल्म ‘लव सेक्स और धोखा’ से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत करने वाले अभिनेता राजकुमार राव ने कम समय में ही अपनी अलग पहचान बनाई है. गुडगाँव में जन्मे इस 33 वर्षीय अभिनेता ने ‘काय पो चे’, ‘क्वीन’, ‘सिटीलाइट्स’ और ‘न्यूटन’ जैसी शानदार फिल्मों में काम किया. फिल्म ‘शाहिद’ के लिए राजकुमार को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुका है.

9. के. के. मेनन

‘गुलाल’, ‘सरकार’, ‘ब्लैक फ्राइडे’ और ‘हैदर’ जैसी फिल्मों में अपने अभिनय का लोहामनवाने वाले के.के. मेनन एक बेहतरीन अभिनेता हैं.केरल में जन्मे के.के. मेनन मार्केटिंग से एमबीए एमबीए कर चुके हैं. छोटे पर्दे से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत करने वाले के.के. मेनन कई अवार्ड भी जीत चुके हैं.

8. नवाजुद्दीन सिद्दीकी

1999 में शूल फिल्म में वेटर और सरफ़रोश में मुखबिर का छोटा सा रोल करने वाले नवाजुद्दीन आज एक सफल अभिनेता हैं जिनकी फ़िल्में अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल्स में अपना जलवा बिखेरती हैं. वे नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से ग्रेजुएट हैं. ‘गैंग्स ऑफ़ वासेपुर’, ‘कहानी’, ‘बदलापुर’ और ‘बजरंगी भाईजान’ उनकी कुछ सफल फिल्मे हैं.

7. मनोज बाजपेयी

Manoj Bajpai

मनोज बाजपेयी बॉलीवुड के एक सफल प्रयोगकर्मी अभिनेता के रूप में जाने जाते हैं. कई फिल्मफेयर और राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके मनोज बाजपेयी ने 1994 में आई अंतराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त फिल्म ‘बैंडिट क्वीन’ से फ़िल्मी करियर की शुरुआत की. उनकी कुछ सफल फ़िल्में ‘सत्या’, ‘पिंजर’, ‘राजनीति’ ,’गैंग्स ऑफ़ वासेपुर’ हैं.

6. पंकज कपूर

पंकज कपूर जाने माने रंगकर्मी, टेलीविज़न और फिल्म कलाकर हैं. छोटे पर्दे पर ‘करमचंद’ और ‘ऑफिस-ऑफिस’ जैसे सफल धारावाहिकों के अलावा उन्होंने ‘जाने भी दो यारों’, ‘एक डॉक्टर की मौत’, ‘मकबूल’ जैसी शानदार फिल्मों में अभिनय किया.

5. अनुपम खेर

नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से स्नातक करने वाले अभिनेता अनुपम खेर ने 1984 में आई सुपरहिट फिल्म ‘सारांश’ से अपनी पहचान बनाई. अपने बेहतरीन अभिनय के लिए अनुपम खेर दो राष्ट्रीय पुरस्कार और आठ फिल्मफेयर पुरस्कार अपने नाम कर चुके हैं. 2016 में उन्हें पदमभूषण से सम्मानित किया गया.

4. नाना पाटेकर

नाना पाटेकर हिंदी और मराठी फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने कलाकार हैं जो अपनी अलग शैली और अभिनय कला के लिए प्रसिद्ध हैं.’परिंदा’, ‘अंगार’ ‘क्रांतिवीर’ और ‘अपहरण’ उनकी सफल फ़िल्में हैं. वे एकमात्र अभिनेता हैं जिन्हें फिल्मफेयर का सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सहायक अभिनेता और खलनायक का पुरस्कार मिल चुका है.

3. इरफ़ान खान

1988 में आई फिल्म ‘सलाम बॉम्बे’ से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत करने वाले इरफ़ान खान नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से ग्रेजुएट हैं. हिंदी फिल्मों जैसे ‘हासिल’, ‘द लंच बॉक्स’, ‘पान सिंह तोमर’, ‘पीकू’ और ‘हिंदी मीडियम’ के अलावा वे हॉलीवुड की ‘स्लमडॉग मिलेनियर’, ‘लाइफ ऑफ़ पाई’ और ‘जुरासिक वर्ल्ड’ का भी हिस्सा रहे.

2. ओम पुरी

ओम पुरी बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता रहे हैं जिन्हें एक्टिंग का ‘चलता फिरता स्कूल’ कहा जाता था. उन्होंने अपने फ़िल्मी सफ़र की शुरुआत 1976 में आई मराठी फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की. उनकी प्रमुख फ़िल्में ‘आक्रोश’, ‘आरोहण’, ‘अर्धसत्य’ और ‘माचिस’ रही हैं.6 जनवरी 2017 को उनका निधन हो गया.

1. नसीरुद्दीन शाह

नसीरुद्दीन शाह हिंदी सिनेमा की मुख्य धारा के साथ समानांतर धारा में सफल हुआ एक ऐसा नाम है जिसे अदाकारी का पैमाना कहा जाता है. 1975 में आई फिल्म ‘निशांत’ से अपने करियर की शुरुआत करने वाले नसीरुद्दीन ने ‘जाने भी दो यारों’, ‘मासूम’, ‘स्पर्श’, ‘चक्र’, ‘इकबाल’ और ‘ए वेडनेसडे’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में अभिनय किया. तीन राष्ट्रीय पुरस्कार और तीन फिल्मफेयर पुरस्कार के अलावा उन्हें भारत सरकार द्वारा पदमभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है.

(source)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here