Home Hindi Jokes पढ़िये चार चुटकुले और दिन की शुरुआत मुस्कान के साथ कीजिये

पढ़िये चार चुटकुले और दिन की शुरुआत मुस्कान के साथ कीजिये

0

Joke #1

एक सुपरस्टोर के सेल्समेन की एक रसूखदार ग्राहक से कहासुनी हो गई। स्टोर के मालिक को जब यह बात पता चली तो उसने सेल्समेन को खूब डांटा और मजबूर किया कि वह ग्राहक को फोन करके माफी मांगे और अपने शब्द वापस ले। सेल्समेन ने ग्राहक को फोन किया –

सेल्समेन : हैलो, गुप्ताजी हैं ?

ग्राहक : बोल रहा हूं । कहो क्या बात है ?

सेल्समेन : मैं रंजन सुपरस्टोर का सेल्समेन बोल रहा हूं ।

ग्राहक : बोलो ….

सेल्समेन : कल मैंने आपसे कह दिया था – भाड़ में जाओ  ।

ग्राहक : हां तो ?

सेल्समेन : अब मत जाना ….

Joke #2

एक नौजवान बिज़नेसमैन एक बार व्यापार के सिलसिले में पहली बार बैंकाक गया।

गया तो वह सिर्फ चार दिनों के लिए ही था पर वहां के होटलों की रंगीन रातों ने उसे इतना प्रभावित किया कि उसने वापस आने का विचार एक सप्ताह के लिए टाल दिया।

उसने अपने घर पर पत्नी को फोन पर बता दिया कि अभी लौटने में थोड़ा वक्त और लगेगा।

एक सप्ताह बाद भी उसका जाने का मन नहीं हुआ । उसने फिर पत्नी को फोन किया और कहा कि यहां उसे इतना अच्छा रिस्पांस मिल रहा है कि अभी आना संभव नहीं है। एक सप्ताह और लगेगा ।

अगले सप्ताह भी जब उसने जाने का मन नहीं किया तो एक दिन उसकी पत्नी ने उसे फोन किया – “अगर तुम इसी वक्त घर के लिए नहीं निकलें तो जो कुछ तुम वहां खरीद रहे हो, वो मैं यहां बेचना शुरू कर दूंगी …!!!”

*बिजनेसमैन महोदय अगली ही फ्लाइट में बैठकर वापस आ गए*

Jokes #3

क्लास में नैतिक शिक्षा के पाठ के दौरान बच्चों को ‘चोरी करना बुरी बात है’ यह समझाने के बाद टीचर ने पूछा –
“अच्छा बताओ, यदि मैं किसी आदमी की जेब से  उसे बताए  बिना  रुपये निकाल लेती हूं तो मैं क्या कहलाऊंगी … ?”

एक बच्चे ने हाथ उठाकर बताया – “उस आदमी की बीवी …….!!!”

Jokes #4

स्पेनिश नौसेना के एक युध्दपोत का कप्तान एक दिन डेक पर टहल रहा था कि तभी उसका सहायक भागता हुआ आया और चिल्लाया – सर ! मैंने अभी अभी दुश्मन का एक युध्दपोत देखा है जो हमारी तरफ आ रहा है ।

कप्तान ने शांतिपूर्वक उसकी बात सुनी, फिर उसे आदेश दिया – जाओ, मेरी लाल कमीज लेकर आओ ।
सहायक उसकी लाल रंग की कमीज ले आया जिसे कप्तान ने पहन लिया।

दोनों जलपोतों के बीच भयंकर युध्द हुआ और अंत में स्पेनिश पोत विजयी रहा। युध्द के बाद, सहायक ने कप्तान से पूछा – सर! मैं आपसे एक बात पूछना चाहता था! आपने युध्द के दौरान लाल रंग की कमीज क्यों पहनी ?

कप्तान ने गर्व भरे ढंग से बताया – ताकि यदि मुझे गोली लगे तो मेरे सैनिक मेरे शरीर से बहता हुआ खून न देख सकें और उनका हौसला न टूटे।

सहायक अपने कप्तान की बहादुरी और बुध्दिमत्ता का कायल हो गया। तभी एक दूसरा सिपाही भागता हुआ आया और बोला – सर, सर ! मैंने अभी दुश्मन के 20 युध्दपोत देखे हैं जो हमारी तरफ आ रहे हैं !

कप्तान, सहायक की ओर मुड़ा और आदेश दिया – जाओ और जाकर मेरी पीले रंग की पेन्ट लेकर आओ…..।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here