ऑस्ट्रेलिया में 50 हजार की बिक रही है भारतीय ‘खटिया’ जिसे शायद...

ऑस्ट्रेलिया में 50 हजार की बिक रही है भारतीय ‘खटिया’ जिसे शायद हम पिछड़ेपन का प्रतीक समझ कर भुलाते जा रहे हैं

0
SHARE

आधुनिक दिखने के चक्कर में हम भारतीय संस्कृति से जुडीं जिन चीज़ों से दूर होते जा रहे हैं, विश्व के आधुनिक देश धीरे धीरे उन्हीं चीज़ों को अपनाते जा रहे हैं. हजारों साल से भारत के घर घर में पाई जाने वाली चारपाई अर्थात ‘खटिया’ या ‘खाट,’ आज के आधुनिक घरों में नजर नहीं आती लेकिन सुदूर ऑस्ट्रेलिया में यही चारपाई 50 हजार रुपये में सफलतापूर्वक बिक रही है.

हाल ही में एक ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति द्वारा दिया गया विज्ञापन इन्टरनेट पर वायरल हुआ है जिसमें हमारी चिरपरिचित ‘खटिया’ 990 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर में बेचीं जा रही है.

विज्ञापन में दिखाई गई चारपाई ठीक वैसी ही है जैसी आज भी आप भारतीय गाँवों में देख सकते हैं. दावा किया गया है कि इसे हाथ से बुना गया है. सिडनी के निवासी डेनियल ब्लूरे ने 2010 में अपनी भारत यात्रा के दौरान चारपाई देखी थी. उन्हें यह इतनी पसंद आई कि उन्होंने एक अपने लिए बनवाई और एक अपने दोस्त के लिए. बाद में इसे बनाकर ऑस्ट्रेलिया में बेचने का फैसला कर लिया.

हमारे देश से प्रेरणा लेकर पत्तल दोने आदि पहले ही कई पश्चिमी देशों में लोकप्रिय हो चुके हैं. अब चारपाई भी दुनिया के विकसित समझे जाने वाले देशों के घरों में अपनी जगह बनाने जा रही है. हमारी चीज़ों की कदर अगर किसी को नहीं है, तो बस हमीं को नहीं है.

(Source : HT)

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY