Shayari in Hindi

Hindi Urdu Sher Shayari | Shayari in Hindi Language

5 Popular Ghazals [Shayari] of Nida Fazli in Hindi

Nida Fazli is a well known poet (Shayar) of India. He wrote many Ghazals and Shers which are extremely popular among the Hindi – Urdu shayari lovers.

Here is 5 selected Ghazals of Nida Fazli in Hindi –

1. Ab khushi hai na koi gam …

अब खुशी है ना कोई ग़म रुलाने वाला
हमने अपना लिया हर रंग ज़माने वाला

उसको रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला

इक मुसाफिर के सफर जैसी है सब की दुनिया
कोई जल्दी में कोई देर से जाने वाला

एक बेचेहरा सी उम्मीद है चेहरा-चेहरा
जिस तरफ देखिये आने को है आने वाला

(more…)

Agar talaash karuun [Bashir Badr]

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जाएगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझको चाहेगा

तुम्हें जरूर कोई चाहतों से देखेगा
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लाएगा

न जाने कब तिरे दिल पर नई सी दस्तक हो
मकान खाली हुआ है तो कोई आएगा

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा

तुम्हारे साथ ये मौसम फरिश्तों जैसा है
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा

Hai ajeeb shahr ki zindagi [Bashir Badr Shayri in Hindi]

है अजीब शहर की ज़िंदगी न सफर रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बदमिजाज़ सी शाम है

कहाँ अब दुआओं की बरकतें वो नसीहतें वो हिदायतें
ये ज़रूरतों का खुलूस है ये मतलबों का सलाम है
यूँ ही रोज़ मिलने की आरज़ू बड़ी रखरखाव की गुफ्तगू
ये शराफतें नहीं बे गरज़ उसे आप से कोई काम है
वो दिलों में आग लगायेगा मैं दिलों की आग बुझाऊँगा
उसे अपने काम से काम है मुझे अपने काम से काम है
न उदास हो न मलाल कर किसी बात का न खयाल कर
कई साल बाद मिले हैं हम तिरे नाम आज की शाम है
कोई नगमा धूप के गांव सा कोई नगमा शाम की छांव सा
ज़रा इन परिंदों से पूछना ये कलाम किसका कलाम है

Ashq aankhon me (Ghazal by Meer)

अश्क आँखों में कब नहीं आता
लहू आता है जब नहीं आता

होश जाता नहीं रहा लेकिन
जब वो आता है तब नहीं आता

दिल से रुखसत हुई कोई ख्वाहिश
गिरिया कुछ बेसबब नहीं आता

इश्क़ का हौसला है शर्त वरना
बात का किस को ढब नहीं आता

जी में क्या-क्या है अपने ए हमदम
हर सुख़न ता ब-लब नहीं आता

Dekh lo dil ki jaan se – (Meer Taqi Meer Poetry)

देख लो दिल कि जाँ से उठता है
ये धुआं सा कहाँ से उठता है

गोर  किस दिलजले की है ये फ़लक
शोला इक सुबह याँ से उठता है
खाना-ए-दिल से ज़िं हार न जा
कोई ऐसे मकाँ से उठता  है
नाला सर खेंचता है जब मेरा
शोर इक आसमां से उठता है
बैठने कौन दे है फिर उसको
जो तेरे आस्तां से उठता है
यूं उठे आह उस गली से हम
जैसे कोई जहाँ से उठता है
इश्क़ इक ‘मीर’ भारी पत्थर है
बोझ कब नातवाँ से उठता है
(नातवाँ = weak)

Jo kuchh kaho qubool hai – Anwar Shaoor [Shayari in Hindi]

anwar-shaoor

Jo kuchh kaho qubool hai taqaraar kya karuun
sharminda ab tumhen sar-e-baazaar kya karuun

Maaloom hai ki pyaar khulaa aasmaan hai
chhutate nahi hain ye dar-o-deevaar kya karuun

Is haal me bhi saans liye jaa rahaa huun main
jaata nahi hain aas ka aazaar kya karuun

Fir ek baar vo rukh-e-maasoom dekhta
khulati nahi hai chashm-e-gunahgaar kya karuun

Ye pur-sukoon subah ye main ye fazaa ‘Shaoor’
vo so rahe hain ab unhen bedaar kya karuun

- Poetry (Shayari) by Anwar Shaoor

Baazeecha-e-atfaal hai [Mirza Ghalib]

baazeecha-e-atfaal-ghalib

Baazeechaa-e-atfaal hai duniya mere aage
hota hai shab-o-roj tamaashaa mere aage

ik khel hai aurang-e-sulemaan mere nazadeek
ek baat hai ejaaz-e-maseeha mere aage

Hota hai nihaan gard me seharaa mere hote
ghisata hai jabeen khaak pe dariyaa mere aage

Mat puuchh ke kya haal hai mera tere peechhe
tuu dekh ke kya rang hai tera mere aage

Nafarat ka gumaan guzare hai mai rashk se guzaraa
kyon kar kahuun lo naam na uskaa mere aage

Iimaan mujhe roke hai jo kheenche hai mujhe kufra
kaabaa mere peechhe hai kaleesaa mere aage

Aashiq huun pe maashooq farebi hai mera kaam
majanuun ko bura kahati hai lailaa mere aage

Go haath ko jumbish nahiin aankhon me to dam hai
rahane do abhi saagar-o-meenaa mere aage

Poetry (Shayari) By : Mirza Ghalib

Dil-e-naadaan tujhe hua kya hai – Mirza Ghalib

mirza-ghalib-shayari

Dil-e-naadaan tujhe hua kya hai
aakhir is dard kee davaa kya hai

ham hain mushtaaq aur vo bezaar
yaa ilaahi ye maazraa kya hai

main bhi muunh me jabaan rakhta hai
kaash puuchho ki muddaa kya hai

jab ki tujh bin nahii koi maujood
phir ye hangaamaa ai khuda kya hai

ham ko unse vafaa kee hai ummeed
jo nahii jaante vafaa kya hai

jaan tum par nisaar karta huun
main nahii jaanta duaa kya hai

maine maana ki kuchh nahii ‘Ghalib’
muft haath aaye to bura kya hai

Poetry (Shayari) by – Mirza Ghalib

Ajanabi khauf fizaaon me basaa ho jaise

Ahmad-kamal-poetry

ajanabi khauf fizaaon me basaa ho jaise
shahar ka shahar hi aasebzada ho jaise

raat ke pichhle pahar aati hain aawaajen sii
door sahara me koi cheekh rahaa ho jaise

dar-o-deevar pe chhai hai udaasi aisii
aaj har ghar se janaazaa saa utha ho jaise

muskurata huun pa-e-khatir-e-ahbaab magar
dukh to chehre kee lakeeron pe sajaa ho jaise

ab agar doob gaya bhi to maruunga na ‘Kamal’
bahte paani pe mera naam likha ho jaise

Poetry (Shayari) By – Ahmad Kamal