Qamar Jalalabadi poetry in Hindi

Qamar Jalalabadi poetry in Hindi

0
SHARE

Qamar Jalalabadi  (original name Om Prakash Bhandari) was an Indian poet and lyricist of songs of Hindi movies. Here is some best of his shayaris in Hindi.

1. Suna thaa ki vo aayenge …

सुना था कि वो आयेंगे अंजुमन में, सुना था कि उनसे मुलाक़ात होगी
हमें क्या पता था हमें क्या खबर थी, न ये बात होगी न वो बात होगी

मैं कहता हूँ इस दिल को दिल में बसा लो, वो कहते हैं हमसे निगाहें मिला लो
निगाहों को मालूम क्या दिल की हालत, निगाहों निगाहों में क्या बात होगी

हमें खींच कर इश्क लाया है तेरा, तेरे दर पे हमने लगाया है डेरा
हमें होगा जब तक न दीदार तेरा, यहीं सुबह होगी यहीं रात होगी

मुहब्बत का जब हमने छेड़ा फ़साना, तो गोरे से मुखड़े पे आया पसीना
जो निकले थे घर से तो क्या जानते थे, कि यूं धूप में आज बरसात होगी

2. Kuchh to hai baat …

कुछ तो है बात जो आती है क़ज़ा रुक-रुक के
ज़िन्दगी कर्ज है किश्तों में अदा होती है

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY