Aal-e-Ahmad Suroor

Aal-e-Ahmad Suroor
A collection of Ghazals, nazms and shayaris of famous Urdu poet Aal-e-Ahmad 'Suroor'.

 

Kuchh log tagayyur se abhi kaanp rahe hain

कुछ लोग तगय्युर से अभी काँप रहे हैं (Ghazal by Aal-e-Ahmad Saroor)

Khushk Kheti hai magar us ko hari kahte hain

खुश्क खेती है मगर उस को हरी कहते हैं (Ghazal by Aale Ahmad Saroor)

Khuda-parast mile aur na but-parast mile

खुदा-परस्त मिले और न बुत-परस्त मिले (Ghazal by Aal-e-Ahmed Saroor)

Jis ne kiye hain phool nichhavar kabhi kabhi

जिस ने किये हैं फूल निछावर कभी कभी (Ghazal by Aal-e-Ahmad Saroor)

Jabr-e-haalaat ka to naam liya hai tum ne

जब्र-ए-हालात का तो नाम लिया है तुमने (Ghazal by Aale Ahmed Saroor)

Jab kabhi baat kisi kii bhi buri lagati hai

जब कभी बात किसी की भी बुरी लगती है (Ghazal by Aal-e-Ahmed Saroor)

Aaj se pehle tire maston kii (Aal-e-Ahmad Saroor)

आज से पहले तिरे मस्तों की ...

Life & Culture

दुनिया की 10 बेहद खतरनाक सड़कें, जिन पर गाड़ी चलाने में...

ज्यादातर लोगों को ड्राइविंग पसंद होती है लेकिन दुनिया में कुछ सड़कें ऐसी भी हैं जिन पर गाड़ी चलाने से बड़े-बड़े ड्राईवर भी कतराते...