चंद रोज़ और – A Nazm by Faiz Ahmed Faiz

चंद रोज़ और – A Nazm by Faiz Ahmed Faiz

0
SHARE

चंद रोज़ और मेरी जान फक़त चंद ही रोज़
ज़ुल्म की छाँव में दम लेने पर मजबूर हैं हम
इक ज़रा और सितम सह लें, तड़प लें, रो लें
अपने अजदाद की मीरास है माजूर हैं हम

(अजदाद = ancestors, मीरास = ancestral property,  माजूर = helpless)

जिस्म पर क़ैद है ज़ज्बात पे जंजीरें हैं
फ़िक्र महबूस है गुफ्तार पे ताजीरें हैं
और अपनी हिम्मत है कि हम फिर भी जिए जाते हैं
जिंदगी क्या किसी मुफलिस की कबा है
जिस में हर घड़ी दर्द के पैबंद लगे जाते हैं

(महबूस = captive, गुफ्तार = speech, ताजीरें = punishments, मुफलिस = poor, कबा = long gown)

लेकिन अब ज़ुल्म की मियाद के दिन थोड़े हैं
इक ज़रा सब्र कि फ़रियाद के दिन थोड़े हैं

अरसा-ए-दहर की झुलसी हुई वीरानी में
हमको रहना है पर यूँ ही तो नहीं रहना है
अजनबी हाथों का बेनाम गरांबार सितम
आज सहना है हमेशा तो नहीं सहना है

(अरसा-ए-दहर=life-time, गरांबार = heavy)

ये तेरी हुस्न से लिपटी हुई आलाम की गर्द
अपनी दो-रोजा जवानी की शिकस्तों का शुमार
चांदनी रातों का बेकार दहकता हुआ दर्द
दिल की बेसूद तड़प जिस्म की मायूस पुकार

(आलाम = sorrow, शिकस्त = defeat, शुमार = inclusion)

चंद रोज़ और मेरी जान फक़त चंद ही रोज़ …

– फैज़ अहमद फैज़ 

—————————————

Chand roz aur meri jaan fakat chand hee roz
zulm kee chaanv mein dam lene par majboor hain ham
ik zaraa aur sitam sah len, tadap len, ro len
apne ajdaad kee meeraas hain maazoor hain ham

Zism par qaid hai zazbaat pe zanjeeren hain
fikra mahboos hai guftaar pe taazeeren hain
aur apni himmat hai ki ham phir bhi jiye jaate hain
zindagi kya kisee muflis kee qabaa hai
jismen har ghadee dard ke paiband lage jaate hain

Lekin ab zulm kee miyaad ke din thode hain
ik zaraa sabra ki fariyaad ke din thode hain

Arsaa-e-dahar kee jhulasee huii veeraani mein
hamko rahna hai par yuun hee to nahi rahna hai
ajnabee haathon ka benaam garaanbaar sitam
aaj sahnaa hai hamesha to nahi sahna hai

Ye teri husn se lipati hui aalaam kee gard
apni do-rozaa javaanee kee shikaston ka shumaar
chaandni raaton kaa bekaar dahakataa hua dard
dil kee besood tadap zism kee maayoos pukaar

Chand roz aur meri jaan fakat chand hee roz …

– Faiz Ahmed Faiz

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY