दिल में अब यूँ तेरे – Ghazal By Faiz Ahmed ‘Faiz’

दिल में अब यूँ तेरे – Ghazal By Faiz Ahmed ‘Faiz’

0
SHARE

दिल में अब यूँ तेरे भूले हुए गम आते हैं
जैसे बिछड़े हुए काबे में सनम आते हैं

इक इक करके हुए जाते हैं तारे रोशन
मेरी मंजिल की तरफ तेरे कदम आते हैं

रक्स-ए-मय तेज करो, साज़ की लय तेज करो
सू-ए-मैखाना सफीरान-ए-हरम आते हैं

और कुछ देर न गुज़रे शब-ए-फुरकत से कहो
दिल भी कम दुखता है वो याद भी कम आते हैं

– फैज़ अहमद ‘फैज़’

———————————-
Dil mein ab yuun tere bhoole hue gam aate hain
jaise bichhade huye kaabe mein sanam aate hain

ik ik karke huye jaate hain taare roshan
meri manzil kee taraf tere kadam aate hain

raks-e-may tez karo saaz kee lay tez karo
soo-e-maikhaana safeeraan-e-haram aate hain

aur kuchh der na guzre shab-e-furkat se kaho
dil bhee kam dukhataa hai wo yaad bhi kam aate hain

– Faiz Ahmad ‘Faiz’

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY