Shayari - Krishna Bihari Noor

Shayari - Krishna Bihari Noor
Sher, Shayari, Poetry of famous Urdu poet of India Shri Krishan Bihari 'Noor, in Hindi

 

ज़िन्दगी से बड़ी सज़ा ही नहीं – Krishna Bihari Noor Shayari in Hindi

ज़िन्दगी से बड़ी सज़ा ही नहीं (Ghazal in Hindi by Krishna Bihari Noor ) - Zindagi se badi sazaa hi nahi aur kya zurm hai pataa...

लाख ग़म सीने से लिपटे रहे (Krishna Bihari Noor Shayari)

laakh gham seene se lipate rahe naagan kee tarah pyaar sachchaa thaa mahakataa rahaa chandan kee tarah tujhko pahchaan liya tujhe paa bhi loonga ik janam aur...

तमाम जिस्म ही घायल था (Ghazal By Krishna Bihari ‘Noor’)

tamaam jism hee ghaayal thaa ghaav aisa thaa koii na jaan sakaa rakh-rakhaav aisa thaa bas ik kahaanii huii ye padaav aisa thaa meri chitaa ka bhii...

नज़र मिला न सके – Few Sher From A Gazal of Krishna Bihari ‘Noor’

नज़र मिला न सके उस से उस निगाह के बाद वही है हाल हमारा जो हो गुनाह के बाद मैं कैसे और किस सिम्त मोड़ता खुद...

इक गज़ल उसपे लिखूँ – Krishna Bihari ‘Noor’ Shayari

इक गज़ल उसपे लिखूँ दिल का तकाजा है बहुत इन दिनों खुद से बिछड़ जाने का धड़का है बहुत रात हो दिन हो गफलत हो कि...

बस एक वक्त का – Ghazal By Krishan Bihari ‘Noor’

बस एक वक्त का खंजर मेरी तलाश में है जो रोज़ भेस बदल कर मेरी तलाश में हैं मैं कतरा हूँ मेरा अलग वजूद तो है हुआ...