बस एक वक्त का – Ghazal By Krishan Bihari ‘Noor’

बस एक वक्त का – Ghazal By Krishan Bihari ‘Noor’

0
SHARE

बस एक वक्त का खंजर मेरी तलाश में है
जो रोज़ भेस बदल कर मेरी तलाश में हैं

मैं कतरा हूँ मेरा अलग वजूद तो है
हुआ करे जो समंदर मेरी तलाश में है

मैं देवता की तरह क़ैद अपने मंदिर में
वो मेरे जिस्म के बाहर मेरी तलाश में है

मैं जिसके हाथ में एक फूल दे के आया था
उसी के हाथ का पत्थर मेरी तलाश में है

– कृष्ण बिहारी ‘नूर’

—————————————–

Bas ek waqt ka khanjar meri talaash mein hai
jo roz bhes badal kar meri talaash mein hai

mai kataraa huun mera alag wajood to hai
hua kare jo samandar meri talaash mein hai

mai devta kee tarah qaid apne mandir mein
wo mere jism ke baahar meri talaash mein hai

mai jiske haath mein ek phool deke aaya thaa
usee ke haath kaa patthar meri talaash mein hai

– Krishan Bihari ‘Noor’

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY