इक गज़ल उसपे लिखूँ – Krishna Bihari ‘Noor’ Shayari

इक गज़ल उसपे लिखूँ – Krishna Bihari ‘Noor’ Shayari

0
SHARE

इक गज़ल उसपे लिखूँ दिल का तकाजा है बहुत
इन दिनों खुद से बिछड़ जाने का धड़का है बहुत

रात हो दिन हो गफलत हो कि बेदारी हो
उसको देखा तो नहीं है उसे सोचा है बहुत

तश्नगी के भी मुक़ामात हैं क्या-क्या यानी
कभी दरिया नहीं काफी, कभी कतरा है बहुत

मेरे हाथों की लकीरों के इजाफे हैं गवाह
मैंने पत्थर की तरह खुद को तराशा है बहुत

कोई आया है ज़रूर और यहाँ ठहरा भी है
घर की दहलीज पा-ए-नूर उजाला है बहुत

– कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Ik gazal us pe likhuun dil ka takaaza hai bahut
in dinon khud se bichhad jaane ka dhadka hai bahut

raat ho din ho gafalat ho ki bedaaree ho
usko dekha to nahi hai use socha hai bahut

tashnagi ke bhii muqaamaat hain kya-kya yaani
kabhi dariya nahi kaafi, kabhi kataraa hai bahut

mere haathon kee lakeeron ke izaafe hain gawaah
maine patthar kee tarah khud ko taraashaa hai bahut

koi aayaa hai jaruur aur yahaan thahra bhi hai
ghar kee dahleez paa-e-noor ujaala hai bahut

– Krishan Bihari ‘Noor’

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY