नज़र मिला न सके – Few Sher From A Gazal of Krishna...

नज़र मिला न सके – Few Sher From A Gazal of Krishna Bihari ‘Noor’

0
SHARE

नज़र मिला न सके उस से उस निगाह के बाद
वही है हाल हमारा जो हो गुनाह के बाद

मैं कैसे और किस सिम्त मोड़ता खुद को
किसी की चाह न थी दिल में तेरी चाह के बाद

ज़मीर काँप तो जाता है आप कुछ भी कहें
वो हो गुनाह से पहले कि हो गुनाह के बाद

गवाह चाह रहे थे वो बेगुनाही का
जुबाँ से कह न सका कुछ खुदा गवाह के बाद

खतूत कर दिए वापस मगर मेरी नींदें
इन्हें भी छोड़ दो इक रहम की निगाह के बाद

 

– कृष्ण बिहारी ‘नूर’

—————————-

Nazar milaa na sake us se us nigaah ke baad
wahi hai haal hamaara jo ho gunaah ke baad

mai kaise aur kis simt modta khud ko
kisi kee chaah na thee dil mein teree chaah ke baad

zameer kaanp to jaataa hai aap kuchh bhi kahen
wo ho gunaah se pahle ki ho gunaah ke baad

gawaah chaah rahe the wo begunaahi kaa
zubaan se kah na sakaa kuchh khuda gawaah ke baad

khatoot kar diye waapas magar meri needen
inhen bhi chhod do ek raham kee nigaah ke baad

– Krishna Bihari ‘Noor”

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY