Home Shayari in Hindi Meer Taqi Meer आरजूएं हज़ार रखते हैं – Meer Taqi ‘Meer’ Shayari

आरजूएं हज़ार रखते हैं – Meer Taqi ‘Meer’ Shayari

0

आरजूएं हज़ार रखते हैं
तो भी हम दिल को मार रखते हैं

बर्क कम हौसला है हम भी तो
दिल एक बेकरार रखते हैं

गैर है मुराद-ए-इनायत हाए
हम भी तो तुमसे प्यार रखते हैं

न निगाह न पयाम न वादा
नाम को हम भी यार रखते हैं

हम से खुश जम-जमा कहां यूँ तो
लब-ओ-लहजा हज़ार रखते हैं

छोटे दिल के हैं बुतां मशहूर
बस यही  ऐतबार रखते हैं

फिर भी करते हैं ‘मीर’ साहिब इश्क
हैं जवाँ इख्तियार रखते हैं

Subscribe our YouTube channel -