नगरी-नगरी फिरा – Shayari By Meeraji

नगरी-नगरी फिरा – Shayari By Meeraji

0
SHARE

नगरी-नगरी फिरा  मुसाफिर, घर का रस्ता भूल गया
क्या है तेरा, क्या है मेरा, अपना पराया भूल गया

अपनी बीती जग बीती है, जब से दिल ने जान लिया
हँसते-हँसते जीवन बीता, रोना धोना भूल गया

अंधियारे से एक किरन ने झाँक के देखा, शरमाई
धुंध सी छब तो याद रही कैसा था चेहरा भूल गया

एक नज़र की एक ही पल की बात है डोरी साँसों की
एक नज़र का नूर मिटा जब एक पल बीता भूल गया

जिसको देखो उसके दिल में शिकवा है तो इतना है
हमें तो सब कुछ याद रहा पर हमको ज़माना भूल गया

कोई कहे ये किसने कहा था कह दो जो कुछ जी में है
‘मीराजी’ कह कर पछताया और फिर कहना भूल गया

– मीराजी

——————————————–

Nagari-nagari phiraa musaafir, ghar kaa rastaa bhool gaya
kya hai teraa kyaa hai meraa apnaa paraayaa bhool gayaa

apnee beetee jag beetee hai jab se dil ne jaan liyaa
hanste hanste jeevan beeta rona dhona bhool gaya

andhiyare se ek kiran ne jhaank ke dekha sharmaaii

dhundh see chhab to yaad rahee kaisaa thaa chehra bhool gayaa

ek nazar kee ek hee pal kee baat hai dori saanson kee
ek nazar kaa noor mitaa jab ek pal beetaa bhool gaya

jisko dekho uske dil mein shikvaa hai to itnaa hai
hame to sab kuchh yaad raha par hamko zamaana bhool gaya

koi kahe ye kisne kahaa thaa kah do jo kuchh jee mein hai
‘Meeraji” kah kar pachhataayaa aur phir kahna bhool gaya

– “Miraji”

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY