Kuchh Nahi Kahataa – Shayari by Momin

Kuchh Nahi Kahataa – Shayari by Momin

0
SHARE

डर तो मुझे किसका है कि मै कुछ नहीं कहता
पर हाल ये अफशां है कि मै कुछ नहीं कहता

नासेह ये गिला है कि मै कुछ नहीं कहता
तू कब मेरी सुनता है कि मै कुछ नहीं कहता

कुछ गैर से होठों में कहे है पे जो पूछो
तो वहीँ मुकरता है कि मै कुछ नहीं कहता

नासेह को जो चाहूँ तो अभी ठीक बना दूँ
पर खौफ़ खुदा का है कि मै कुछ नहीं कहता

चुपके से तेरे मिलने का घरवालों में तेरे
इस वास्ते चर्चा है कि मैं कुछ नहीं कहता

हर वक्त है दुश्मन हर एक बात पे ताना
फिर इस पे भी कहता है कि मैं कुछ नहीं कहता

‘मोमिन’ बा-खुदा सिहर बयानी का जभी तक
हर एक को को दावा है कि मैं कुछ नहीं कहता

– मोमिन खान ‘मोमिन’

Dar to mujhe kiska hai ke mai kuchh nahi kahataa
par haal ye afshaan hai ke mai kuchh nahi kahataa

Naaseh ye gilaa hai ke mai kuchh nahi kahataa
tuu kab meri sunataa hai ke mai kuchh nahi kahataa

Kuchh gair se hothon me kahe hai pe jo puuchho
to wahiin mukarataa hai ki mai kuchh nahi kahataa

Naaseh ko jo chaahuun to abhi theek banaa duun
par khauf khuda ka hai ke mai kuchh nahi kahataa

Chupake se tere milane ka gharwaalon me tere
is vaaste charcha hai ke mai kuchh nahi kahataa

har waqt hai dushman har ek baat pe taana
phir is pe bhii kahataa hai ke mai kuchh nahi kahataa

‘Momin’ baa-khuda sihar bayaani kaa jabhii tak
har ek ko daava hai ke mai kuchh nahi kahataa

– Momin Khan ‘Momin’

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY