Dasht-E-Shab Par – Ghazal by Parveen Shakir

Dasht-E-Shab Par – Ghazal by Parveen Shakir

0
SHARE

दश्त-ए-शब पर दिखाई क्या देंगी
सिलवटें रौशनी में उभरेंगी

घर की दीवारें मेरे जाने पर
अपनी तन्हाईयों को सोचेंगी

उँगलियों को तराश दूँ फिर भी
आदतन उसका नाम लिक्खेंगी

एक खुशबू से बच भी जाऊँ अगर
दूसरी निकहतें जकड़ लेंगी

खिड़कियों पर दबीज़ परदे हों
बारिशें फिर भी दस्तकें देंगी

– परवीन शाकिर

———————–

Dasht-e-shab par dikhaaii kyaa dengi
silvaten roshni mein ubharengi

ghar kee deevaren mere jaane par
apni tanhaayiyon ko sochengi

ungaliyon ko taraash doon phir bhee
aadtan uska naam likkhengi

ek khushbuu se bach bhi jaaoon agar
doosri nikahaten jakad lengi

khidkiyon par dabeez parde hon
baarishen phir bhee dastaken dengi

– Parveen Shakir

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY