अंगड़ाई पर अंगड़ाई – A Gazal By Qateel Shifai

अंगड़ाई पर अंगड़ाई – A Gazal By Qateel Shifai

0
SHARE

अंगड़ाई पर अंगड़ाई लेती है रात जुदाई की
तुम क्या समझो तुम क्या जानो बात मेरी तन्हाई की

कौन सियाही घोल रहा था वक़्त के बहते दरिया में
मैंने आँख झुकी देखी है आज किसी हरजाई की

वस्ल की रात ना जाने क्यूँ इसरार था उनको जाने पर
वक़्त से पहले डूब गए तारों ने बड़ी दानाई की

उड़ते-उड़ते आस का पंछी दूर उफ़क में डूब गया
रोते-रोते बैठ गई आवाज़ किसी सौदाई की

– कतील शिफ़ाई

—————————–

Angadaai par angadaai leti hai raat judaai kee
tum kya samjho tum kya jaano baat meri tanhaai kee

kaun siyaahi ghol rahaa thaa waqt ke bahate dariya mein
maine aankh jhukii dekhi hai aaj kisi harjaaii kii

vasl kee raat na jaane kyun israar thaa unko jaane par
vaqt se pahle doob gaye taaron ne badee daanaaii kee

udte-udte aas kaa panchhi door ufaq mein doob gaya
rote – rote baith gai aawaaz kisi saudaaii kee

– Qateel Shifai

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY