गुज़रे दिनों की याद – Shayari in Hindi By Qateel Shifai

गुज़रे दिनों की याद – Shayari in Hindi By Qateel Shifai

0
SHARE

गुज़रे दिनों की याद बरसती घटा लगे
गुज़रूँ जो उस गली से तो ठण्डी हवा लगे

मेहमान बनके आए किसी रोज़ अगर वो शख्स
उस रोज़ बिन सजाए मेरा घर सजा लगे

मैं इसलिए मनाता नहीं वस्ल की खुशी
मेरे रकीब की न मुझे बददुआ लगे

वो कहत दोस्ती का पड़ा है कि इन दिनों
जो मुस्कुरा के बात करे आशना लगे
(कहत = famine/scarcity, आशना=friend / acquaintance)

तर्क-ए-वफ़ा के बाद ये उसकी अदा ‘कतील’
मुझको सताए कोई तो उसको बुरा लगे

– कतील शिफाई

———————————-

Guzare dinon kee yaad barasati ghataa lage
guzaroon jo us gali se to thandi hawaa lage

Mehman banke aaye kisi roz agar wo shakhs
us roz bin sajaaye mera ghar sajaa lage

mai isliye manaataa nahi vasl kee khushi
mere raqeeb kee na mujhe baddua lage

wo qahat dosti ka padaa hai ki in dinon
jo muskura ke baat kare aashna lage

tark-e-vafaa ke baad ye uski adaa ‘Qateel’
mujhko sataaye koi to usko bura lage

– Qateel Shifai

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY