आज जाने की जिद ना करो – Faiyaz Hashmi Shayari

आज जाने की जिद ना करो – Faiyaz Hashmi Shayari

0
SHARE

आज जाने की जिद ना करो

यूँ ही पहलू में बैठे रहो

हाय ! मर जायेंगे, हम तो लुट जायेंगे

ऎसी बातें किया ना करो

 

तुम ही सोचो ज़रा क्यूँ ना रोकें तुम्हें

जान जाती है जब उठके जाते हो तुम

तुमको अपनी कसम जाने जां

बात इतनी मेरी मान लो

 

वक्त की क़ैद में जिंदगी है मगर

चंद घड़ियाँ यही हैं जो आज़ाद हैं

इन को खो कर अभी जाने जां

उम्र भर ना तरसते रहो

 

कितना मासूम-ओ-रंगीन है ये समां

हुस्न और इश्क की आज मेराज है

कल की किसको खबर जाने जां

रोक लो आज की रात को

 

गेसुओं की  शिकन है अभी है शबनमी

और पलकों के साये भी मदहोश हैं

हुस्न-ए-मासूम को जाने जां

बेखुदी में न रुसवा करो

– फैयाज हाशमी

————————————

Aaj jaane kee zid naa karo

yuun hee pahluu mein baithe raho

haay ! mar jaayenge, ham to lut jaayenge

aisee baaten kiya naa karo

 

tum hee socho zaraa kyuun na roken tumhen

jaan jaati hai jab uthke jaate ho tum

tum ko apni kasam jaane jaan

baat itni meri maan lo

 

waqt kee qaid mein zindagi hai magar

chand ghadiyaan yahi hain jo aazaad hain

in ko khokar abhi jaane jaan

umra bhar naa taraste raho

 

kitna maasoom-o-rangeen hai ye samaan

husn aur ishq kee aaj meraaj hai

kal kee kisko khabar jaane jaan

rok lo aaj kee raat ko

 

gesuon kee shikan hai abhi shabnamee

aur palkon ke saaye bhi madhosh hain

husn-e-maasoom ko jaane jaan

bekhudi mein na rusva karo

– Faiyaz Hashmi

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY