हमें कोई गम नहीं था – Ghazal by Faiyaz Hashmi

हमें कोई गम नहीं था – Ghazal by Faiyaz Hashmi

0
SHARE

हमें कोई गम नहीं था गम-ए-आशिकी से पहले
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले

है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कसूर इसमें
तेरे गम ने मार डाला मुझे जिंदगी से पहले

मेरा प्यार जल रहा है ऐ चाँद आज छुप जा
कभी प्यार था हमें भी तेरी चांदनी से पहले

मैं कभी ना मुस्कुराता जो मुझे ये इल्म होता
कि हज़ारों गम मिलेंगे मुझे इक खुशी से पहले

ये अजीब इम्तेहां है कि तुम्ही को भूलना है
मिले कब थे इस तरह हम तुम्हे बेदिली से पहले

– फैयाज हाशमी

Hame koi gam nahi thaa gam-e-aashiqi se pahle
na thee dushmani kisi se teri dosti se pahle

Hi ye meri badnaseebee tera kya kasoor ismen
tere gam ne maar daalaa mujhe zindagi se pahle

Mera pyaar jal rahaa hai ai chaand aaj chhup jaa
kabhi pyaar thaa hame bhi teri chaandni se pahle

Main kabhi na muskuraata jo mujhe ye ilm hota
ki hazaaron gam milenge mujhe ik khushi se pahle

Ye ajeeb imtehaan hai ki tumhi ko bhoolna hai
mile kab the is tarah ham tumhe bedilii se pahle

– Faiyaz Haashmi

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY