कमबख्त

कमबख्त

0
SHARE

कल रात मच्छर ने काटा मेरे चेहरे पर,
दिल में जूनून था…. आँखों में खून था

उठाया उसे मसल देने के लिए पर ख्याल आया
कमबख्त में भी आखिर अपना ही खून था.

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY