प्रेम

प्रेम

2
SHARE

“प्रेम नितांत मूर्खता है…. और ईश्वर करे मैं एक बार फिर मूर्ख बन जाऊँ !”

 

SHARE
Previous articleइच्छा
Next articleदृढ़ता

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY