बस जिंदगी गुजर गई

बस जिंदगी गुजर गई

9
SHARE

एक कब्रिस्तान के बाहर लगे बोर्ड पर लिखा था –

“मंजिल तो मेरी यही थी…

.

.

.

बस जिंदगी गुजर गई,

यहाँ तक आते आते … ”

Sent By : Nadeem armaan, India.

 

9 COMMENTS

  1. yes of cours………..b coz.
    Zindagi ek kiraye ka ghar hai, Ek na na ek din badalna padega,
    mout jab tujh ko awaz degi, ghar se bahar nikalna padega.jana sabne hai mere dost ye zindagi ki gadi hai.

  2. badlo ke darmiya kuch aisi sajis hui.
    mera ghar mitti ka tha mere hi ghar baris hui.
    unko jid hai hum par bijiliyan girane ki.
    hume bhi jid hai wahi ashiyan banane ki.

  3. ये लाइन्स उन लोगों के लिये एक दम सही है जो कहते हैं

    .सीढ़ियां उन्हे मुबारक हो, जिन्हे छत तक
    जाना है;
    मेरी मंज़िल तो आसमान है, रास्ता मुझे खुद
    बनाना है!

LEAVE A REPLY