डॉक्टर साहब हैं ?

डॉक्टर साहब हैं ?

3
SHARE

एक साहब का गला बैठ गया. बहुत कोशिश की पर आराम नहीं मिला. रात के 2 बजे अपनी बीवी से बोले – कुछ समझ में नहीं आ रहा है क्या करूँ ?

बीवी बोली – इसमें शर्माने की क्या बात है, सामने ही तो डॉक्टर का घर है, चले जाओ.

साहब बोले – रात के 2 बजे किसी के घर जाते हुए अच्छा नहीं लगता है.

बीवी बोली – डॉक्टर का तो फ़र्ज़ यही है. वे कभी भी मरीज को देख सकते हैं, इस बात की उन्हें शपथ दिलाई जाती है.

घबराते घबराते वे सामने वाले अपार्टमेन्ट में पहुंचे. दरवाजा खटखटाया. अन्दर से डॉक्टर की बीवी ने पूछा – कौन है ?

साहब (गला बैठी हुई आवाज़ में) – मैं हूँ. आपका पडोसी. डॉक्टर साहब हैं ?

अन्दर से आवाज़ आयी – नहीं हैं, आ जाओ ….. !!!

Sent By : Salil Jain, Jaipur.