जाग जाइये

जाग जाइये

0
SHARE

एक आदमी और उसकी पत्नी में अनबन हो गई और उन्होंने एक दूसरे से बोलना बंद कर दिया। एक दिन आदमी को सुबह 5 बजे की रेलगाड़ी से कहीं जाना था। इसके लिये 4 बजे जागना जरूरी था लेकिन वह भी पहले नहीं बोलना चाहता था। लिहाजा उसने कागज पर नोट लिखा – ”मुझे 4 बजे जगा देना।” और पत्नी के सिरहाने रख दिया ।
सुबह जब वह उठा तो 9 बज रहे थे। उसकी ट्रेन छूट चुकी थी। गुस्से से भन्नाया हुआ वह पत्नी पर चिल्लाने ही वाला था कि उसकी नजर सिरहाने रखे कागज के टुकड़े पर पडी जिस पर लिखा हुआ था – ”4 बज गये हैं। जाग जाइये।”

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY