एक मिनट रुकिए

एक मिनट रुकिए

15
SHARE

जैसे ही ड्राईवर ने गियर लगाया और बस को आगे बढ़ाने को हुआ कि तभी पीछे से एक  मीठी सी आवाज़ आई – “ड्राईवर साहिब, जरा एक मिनट रुकिए ! मुझे कपड़े तो उतार लेने दीजिए.”

सारी आँखें एक साथ पीछे की ओर घूम गईं.

धोबन थी, जो अपना  कपड़ों का गट्ठर बस से नीचे उतार रही थी.

Sent By: Lalit Sharma, Delhi.

 

15 COMMENTS

  1. LALIT जी अच्छा हुआ बो तो धोविन थी अगर कोई लड़की होती तो सोचो ललित जी आप की रानी

  2. ललित जी आपके जोक में कोई खाक बात नहीं थी क्योंकि कपडे धोबिन के आलावा कोई भी उठा सकती थी

  3. थैंक्स में तो कुछ ओर ही समझा की ललित जी बस में भी ……..

LEAVE A REPLY