इतनी अकल है

इतनी अकल है

0
SHARE

संता और बंता “जुरासिक पार्क” फिल्म देखने गए.

फिल्म की शुरुआत में तो सब ठीक रहा लेकिन जैसे ही परदे पर डायनासौर आने शुरू हुए, संता सीट के नीचे दुबकने लगा.

बंता – “डरता क्यों है यार ! सिनेमा ही तो है !”

संता – “आदमी हूँ, इतनी अकल है मुझमें. जानता  हूँ कि ये सिनेमा है लेकिन वो तो जानवर है … क्या वो जानता है ?”

Sent By : Naresh Diwakar, Kanpur.

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY