जबान के पक्के

जबान के पक्के

0
SHARE

रामलाल अपनी बड़ी लड़की की शादी के लिए लड़के की तलाश में एक दूसरे गाँव में अपने एक परिचित किशन सिंह  के पास गया और उससे कोई ठीक सा लड़का दिखाने के लिए कहा। किशन ने अपने पड़ौस में एक लड़का दिखाया और उसके माँ-बाप से बातचीत भी करवाई। लड़का खेती-बाड़ी करता था और उसकी उम्र बताई गई थी पच्चीस साल। लेकिन किन्हीं कारणों से यहाँ रिश्ते की बात पक्की न हो सकी। रामलाल की लड़की की शादी कहीं और हो गई।

रामलाल की एक और लड़की भी थी जो बड़ी लड़की से पाँच साल छोटी थी। पाँच साल बाद रामलाल छोटी लड़की की शादी के लिए लड़के की तलाश में फिर उसी गाँव में अपने परिचित किशन सिंह के पास जा पहुँचा जहाँ बड़ी लड़की के लिए लड़का देखने गया था लेकिन बात नहीं बनी थी।

रामलाल उस बात को भूल चुका था। इस बार फिर किशन सिंह रामलाल को लड़का दिखाने ले गया और संयोग से उसी घर में जा पहुँचे जहाँ पाँच साल पहले भी गए थे। वहाँ जाकर रामलाल को याद आया कि ये तो वही लड़का है जिसे पाँच साल पहले बड़ी लड़की के लिए देखने आया था। बातचीत का दौर शुरू हुआ और लड़के के माँ-बाप ने बताया कि लड़का खेती-बाड़ी करता है और उम्र है पच्चीस साल।

रामलाल ने कहा, ”भई क्या माजरा है? मैं पाँच साल पहले आया था तब भी आपने लड़के की उम्र पच्चीस साल बताई थी और आज भी पच्चीस साल बता रहे हो।”

लड़के के बाप ने कहा, ”देखो भाई हम इस किस्म के आदमी नहीं है जो आज कुछ कहें और कल कुछ कहें। हम अपनी जबान के पक्के हैं और आप पाँच साल बाद भी पूछोगे तो भी लड़के की उम्र पच्चीस साल ही बताएँगे।”

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY