क्या चाहिए था … ?

क्या चाहिए था … ?

5
SHARE

एक गांव में बाढ़ आ गई। घरों में पानी भरने लगा तो गांव के लोग जान बचाने के लिए सुरक्षित स्थानों की तरफ चले गये। केवल एक आदमी, जो भगवान का बड़ा भक्त था, अपने घर में फंसा रह गया। जब पानी ज्यादा बढ़ने लगा तो वह छत पर चढ़ गया और भगवान से प्रार्थना करने लगा। तभी एक नाव उसके घर के पास से गुजरी। नाव पर सवार आदमी ने चिल्लाकर उसे नाव पर आने के लिए कहा पर आदमी ने मना कर दिया। बोला – मुझे अपने भगवान पर पूरा विश्वास है। वे मुझे जरूर बचा लेंगे। तुम जाओ।

नाव वाला नाव लेकर चला गया। आदमी फिर प्रार्थना करने लगा। करीब एक घंटे बाद एक मोटरबोट उसकी तरफ आई। मोटरबोट सवार ने भी उस आदमी  से चलने का अनुरोध किया पर उस आदमी ने उसे भी मना कर दिया – नहीं भाई। तुम जाओ । मेरे प्रभु मुझे बचाने अवश्य आएंगे। और फिर प्रार्थना में तल्लीन हो गया।

कुछ देर बाद एक हेलिकॉप्टर वहां से गुजरा। छत पर खड़े अकेले आदमी को देखकर उन्होंने रस्सी उसकी ओर फेंकी और हेलिकॉप्टर पर आने का इशारा किया। पर उस आदमी ने उनकी भी मदद लेने से इनकार कर दिया। बोला – आप लोग चिन्ता न करें । मेरे भगवान मुझे बचा लेंगे।

अंतत: पानी छत पर आ गया और उस आदमी की डूब कर मौत हो गई।

परलोक पहुंचने पर वह सीधा भगवान के सामने जा खड़ा हुआ और फट पड़ा – भगवान ! ये आपने ठीक नहीं किया ! मैंने सच्चे मन से आपकी प्रार्थना की ! आप पर भरोसा किया, इसके बावजूद आपने मुझे नहीं बचाया ! आखिर क्यों ?

भगवान आवेश में आकर बोले – अरे मूर्ख ! मैंने तुझे बचाने के लिए एक नाव, एक मोटरबोट और एक हेलिकॉप्टर भेजा ! अब और तुझे क्या चाहिए था ……… ?

Sent By : Rohit Asthana, Patna.

 

5 COMMENTS

  1. ये कोई जोक नहीं ये सचाई हैं क्योंकि हम भगवान् के रूपों को पहचान नहीं सकते वो हमारे सामने होतें और हमें वो एक आम इंसान लागतें हैं लेकिन फिर भी अच्छा था

  2. एक और बात
    एक बार एक आदमी मरने के बाद भगवान् के पास जाता हैं और बोलता हैं की मुझे अपनी पूरी ज़िन्दगी देखनी हैं की मैंने क्या क्या किया और क्या नहीं कांह कांह तुम मेरे साथ थे और कांह नहीं भगवान् जी कहतें हैं की वो रेट पर निशान देखतें रहना तुम्हें अपने आप पता चल जाएगा . वो आदमी देखता हैं की जब वो मजे मैं था तो वहां दो आदमियों के पावों के निशान थे और जब वो मुशीबत मैं था तो वहाँ एक आदमी के पावों के निशान थे तब उसने भगवान् से पूछा की हाय भगवन जब मैं मझे मैं था तो तुम मेरे साथ रहे मझे किये और जब मैं मुशीबत मैं था तो तुम वहाँ नहीं थे क्यों . तुब भगवन ने कहा के जब तुम मझे मैं थे तो मैं भी तुम्हारे साथ मझे किये लेकिन जब तुम मुसीबत मैं थे तब वो मुशीबत सिर्फ मैंने ही उठाई हैं तुम तो वहाँ थे ही नहीं बेटा

LEAVE A REPLY