सयानी

सयानी

1
SHARE

गांव की एक लड़की ने अपनी मां की इच्छा के विपरीत उच्च शिक्षा के लिए शहर के कॉलेज में दाखिला लिया। चलते वक्त उसकी मां ने उसे चेतावनी दी – बेटी, अकेली रहने जा तो रही हो पर जरा संभल कर रहना। अगर तुम्हारे कमरे में किसी मर्द की छाया भी पड़ी तो मुझे मर गई ही समझना।

कुछ दिन बाद मां ने बेटी के हॉस्टल फोन लगाया तो जवाब मिला कि वह कमरे में नहीं है। कुछ देर बाद उसने फिर फोन लगाया पर बेटी तब भी कमरे पर नहीं थी। मां को बहुत चिंता हुई । पता नहीं कहां-कहां घूम रही है। आखिरकार रात को एक बजे बेटी से फोन पर बात हुई । मां ने डांटते हुए पूछा – कहां गई थी इतनी देर तक ? आखिर पड़ गई न किसी लड़के के चक्कर में …..?

बेटी ने जवाब दिया – तुम चिंता न करो मां ! मैंने उसे अपने कमरे में नहीं आने दिया। बल्कि मैं ही उसके कमरे पर गई थी ताकि उसकी मां मर जाए….. मेरी नहीं ………

Sent By : Sumit Dandotiya, Dholpur.

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY