चंदे वाला थाल

चंदे वाला थाल

0
SHARE

3 दोस्त, जो बेहद कंजूस थे, एक दिन प्रवचन सुनने के लिए गए. 

प्रवचन की समाप्ति पर प्रवचन करने वाले संत ने सभी उपस्थित लोगों से किसी सत्कार्य के लिए चन्दा देने की अपील की.

एक आदमी एक थाल लेकर जनता के बीच घूमने लगा जिसमें लोग चंदे के रुपये डालने लगे.

जैसे-जैसे चंदे का थाल उन तीनों कंजूस दोस्तों के नज़दीक आता गया, उनकी बेचैनी बढ़ने लगी.

और जैसे ही चंदे वाला थाल उनकी लाइन में आया, बेचैनी इतनी बढ़ी कि उनमें से एक बेहोश हो गया और बाकी दो उसे उठाकर बाहर ले गए.

3 dost, jo behad kanjoos they, ek din pravchan sunne ke liye gaye.

pravachan kee samaapti par pravachan karne waale sant ne sabhi upasthit logon se kisi satkaarya ke liye chanda dene kee appeal ki.

ek aadmi ek thaal lekar janata ke beech ghoomne laga jisme log chande ke rupaye daalne lage.

jaise-jaise chande kaa thal un teeno kanjoos doston ke nazdeek aata gaya unki bechaini badhne lagi.

aur jaise hi chande waala thal unki line mein aaya, bechaini itni badhi ki unme se ek behosh ho gaya aur baaki 2 use uthakar baahar le gaye.

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY