अनुभव

अनुभव

18
SHARE

तीन कैदी जेल में बैठकर अपने-अपने अनुभव बता रहे थे।
पहला : मैं पिछले चुनाव में एक राष्ट्रीय दल के उम्मीदवार सखाराम का जोरदार समर्थन करने के जुर्म में यहां हूं।
दूसरा : और मैं उसी सखाराम का विरोध करने के कारण जेल की हवा खा रहा हूं।
तीसरा : बहुत खूब, और सखाराम मैं खुद हूं।

Sent by: manish4balaji@gmail.com

 

18 COMMENTS

  1. Ek sardarji ne saokh saokh mein Roza rakh liya, bari mushkil se 5 baja bete se bole jaa beta dekh suraj duba, beta: nahin, phir aadhe ghante ke baad ja dekh suraj duba beta: nahin, phir aadhe ghante ke baad bole ja dekh beta: nahin, Sardarji bole lagta hain mghe lekar hi डूबेगा.

LEAVE A REPLY