परोपकार

परोपकार

67
SHARE

एक आदमी जो तैरना नहीं  जानता था, गलती से गहरी झील में गिर गया.  डूबते-डूबते उसके हाथ में एक मछली आ गयी.

उसने पूरी ताकत से मछली को पानी से बाहर फेंका और बोला –

“जा !  कम से कम तू तो अपनी जान बचा ले … !”

Sent By : Manish Agrawal, Bhind.

 

67 COMMENTS

  1. हम उनकी गली से गुजर रहे थे ये एक अजीब इत्तफाक था ,
    .
    हम उनकी गली से गुजर रहे थे ये एक अजीब इत्तफाक था ,
    उन्होंने फूल फेंका मगर गमला भी साथ था ! ! ! ! ! ! !

  2. क्या रे निर्बुद्धि मनाब जाती ,कम कम से मछली का जान तो बचाते

  3. इन्सान गलतियों का पुतला होता है इस लिए इस पुतले से भी गलती हो गई मरते मरते अनजाने में ही सही एक गलती कर गया.

  4. हम उनकी गली से गुजर रहे थे ये एक अजीब इत्तफाक था ,
    .
    हम उनकी गली से गुजर रहे थे ये एक अजीब इत्तफाक था ,
    उन्होंने फूल फेंका मगर गमला भी साथ था ! ! ! ! ! ! !

    Reply

  5. मरते मरते भी हंसा गया कम्बखत इन्सान इसी को कहते है

  6. अच्छे जोक पोस्ट किया करो नहीं तो खुद जोक बनकर रह जाओगे एक भी अच्छी कमेन्ट नहीं आएगी..
    मैं कलपु खान लखनऊ से संत कबीर नगर का रहने वाला हूँ

  7. क्या जोक चाहिए वेग और नॉन वेग हमारे पास दोनों उपलब्ध है बस आप सिर्फ शौक farmaayiyega

  8. एक नगमा छुट कुली पेश कर रहा हूँ यहाँ कलम खुमाने की इजाज़त थो किसने दिया यही उल्जहन में पद गया hoon

  9. तुम सब कमीनो को आखिर किसके मरने का दुःख है , मुझ भी तो बताओ

  10. मस्त था भाई १ दम फर्स्ट क्लास ……………………………….आई होप आप एसे ही सब को हँसाते रहे !!!!!!!!!!

  11. air hostess to lalu sir r u vegetarion or non vegetarion lalu:no,i am indian.air hostess:no sir r u shakahari or manshahari.lalu:hat pagli i am bihari.

  12. Ek baar 3 fruits mein aapas mein baatcheet hoti hai.
    Apple: Mujhe toh sab dho ke aur kaat ke khaate hai.
    Amrood: Tujhe kya mujhe bhi sab dho ke aur kaat ke khate hai.
    Apple, chup chaap baithe banana se kehta hai tu chup kyu hai?
    Banana : “Main kya kahu mujhe toh batate hue bhi saram aati hai, mujheh to sab log nanga karke khate hai.”
    Submitted by: shubham joshi

  13. उनकी छवि ने आकर कहा हमसे,
    बक डालो फिर एक कविता नयी,
    हम बोले कविता बकना आसान नहीं,
    ये कोई पीकदान नहीं कि खाया हर बार,
    और उगलकर तुम्हारे नाम कर दिया……..

  14. उनकी छवि ने आकर कहा हमसे,
    बक डालो फिर एक कविता नयी,
    हम बोले कविता बकना आसान नहीं,
    ये कोई पीकदान नहीं कि खाया हर बार,
    और उगलकर तुम्हारे नाम कर दिया

  15. ha dear esa bhi ittefak होता h पर कभी कभी जब tum लव karne ke bad apne boyfrd ke ghar ke सामने se गुजरते ho or uski mammy tum ko dekh leti h

  16. अरे एक लड़की ने कमेन्ट क्या कर दिया के तुम सब के सब उस के पीछे ही पड़ गये

    Reply

  17. ARE MERI JAAN JYOTI ENTFAK ME JANE KYA KYA HO JATA H JO NHI HONA CHAHIYE BO BHI HO JATA YAKIN NA HO TO KISI SE ETFAK MAI THORI SI NJRE MILA KR DEKHO PERSONAL EXPERIENCE H

  18. इन्सान गलतियों का पुतला होता है इस लिए इस पुतले से भी गलती हो गई मरते मरते अनजाने में ही सही एक गलती कर गया

  19. Ik
    bajurg aurat lift vich khadi
    hundi h
    ik kudi kafi mehnga
    perfume lga k lift vich
    … aundi h, te us aurat nu bdi
    aakad nal kehndi h,
    “Cobra perfume, Rs.6000”
    fir ik hor kudi aundi hai te
    kehndi h
    “Jasmeen perfume”
    Rs.7000/Bottle”
    achanak lift ruk jandi hai,
    oh bajurg aurat dona kudia
    de ale duale ik chakar
    lgaundi hai.. Te fir ik awaaj
    aundi hai “Puuuun”
    dono kudia apne nakk fad
    lendia ne te us aurat wal
    dekhdia ne
    bajurg aurat with smile:–
    “Mooliyaan”15 Rupay
    Killo” 🙂 😀
    hahahahaha lolz 😀

  20. वाह क्या जोक था, डोकरी माई ने सरगम छोड़ माहौल गरमा दिया.

  21. एक आदमी की कार से टकराकर एक तोता जख्मी हो गया.

    आदमी उस घायल तोते को अपने घर ले गया. उसने उसका इलाज़ किया और पिंजरे में रख दिया.

    होश में आते ही तोता जोर से चिल्लाया – “आईला जेल … !!! कार का ड्राईवर मर गया क्या… ???”

LEAVE A REPLY