फर्क

कबीर दास -

“ आज का काम कल पर मत छोड़ो क्योंकि हो सकता है कल प्रलय आ जाये  और सब ख़तम हो जाये.”
.
.
.
.
.
.

आज के नौजवान -

 आज का काम कल पे जरुर छोड़ो …

हो सकता है कल उसके लिए कोई मशीन आ जाये और  काम और भी आसान हो जाये…..

Sent By : Abhinav Srivastava, Lucknow.

Enjoyed this post? Share it!

 

7 thoughts on “फर्क

  1. काम के लिये तुम ने अच्छी बात बोली हे वैरी गुड

Comments are closed.

More Posts from this Category

`