पूछना जरूरी नहीं समझा

पूछना जरूरी नहीं समझा

5
SHARE

एक शरीफ यात्री ने बस कंडक्टर से पूछा – “क्या मैं बस में सिगरेट पी सकता हूँ ?

कंडक्टर – “नहीं श्रीमान !”

“तो फिर बस में ये सिगरेटों के टुकड़े कहाँ से आये हैं ?” – यात्री ने प्रति-प्रश्न किया.

“ये उन लोगों ने फेंके हैं जिन्होंने सिगरेट पीने के लिए मुझसे पूछना जरूरी नहीं समझा था !” – कंडक्टर ने जवाब दिया.

 

 

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY