भारत का स्कॉटलैंड, जहां आप जीवन में एक बार तो जरूर जाना...

भारत का स्कॉटलैंड, जहां आप जीवन में एक बार तो जरूर जाना चाहेंगे

0
SHARE

पहाड़ों पर छुट्टियां मनाने के शौक़ीन ज्यादातर भारतीय उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश या जम्मू कश्मीर की ओर रुख करते हैं. बेशक इन तीनों राज्यों में प्रकृति ने अपना अद्भुत सौंदर्य बिखेरा है लेकिन हिमालय का वो हिस्सा, जिसे हम उत्तर पूर्व के नाम से जानते हैं, में भी कई ऐसी अद्भुत जगहें हैं जिनकी तुलना आप किसी विदेशी टूरिस्ट स्पॉट से कर सकते हैं. 

भारत के उत्तर पूर्वी राज्यों में से एक है मेघालय, जिसकी राजधानी शिलोंग है. शिलॉंग और उसके आसपास का इलाका इतना खूबसूरत है कि उसकी तुलना खूबसूरत यूरोपीय देश स्कॉटलैंड से की जाती है. या यूँ कहें कि इसे भारत का स्कॉटलैंड ही कहा जाता है. हरे भरे पहाड़, जलप्रपात, कल कल बहती नदियाँ, झीलें आदि क्या नहीं है शिलॉंग में.

मेघालय राज्य की राजधानी होने से पहले शिलांग असम की राजधानी हुआ करता था फिर 1972 में असम राज्य के विभाजन के बाद मेघालय की स्थापना हुई और शिलांग को मेघालय की राजधानी घोषित किया गया. अंग्रेजों के शासन काल में ये शहर उनका महत्वपूर्ण प्रशासनिक केन्द्र हुआ करता था.

यदि आप पूर्वोत्तर राज्यों में जाने का प्लान बना रहे हैं तो मेघालय को अपनी लिस्ट में जरूर शामिल कर लीजिये क्योंकि इसे देखे बिना आपकी यात्रा अधूरी ही रहेगी.

एक बार आप शिलोंग पहुँच गए तो आपको ऐसा लगेगा कि जैसे आप स्वर्ग में आ गए हैं. यहाँ एक नहीं, अनेक झरने हैं जो आपका मन मोह लेंगे.

सबसे खूबसूरत झरना एलीफैंट फाल है जो यहाँ बहुत प्रसिद्ध भी है. यहाँ से शिलांग शहर और आसपास की बस्तियों का मनोरम नजारा देखा जा सकता है. इस झरने का स्थानीय नाम ‘का कशैद लाई पातेंग खोहस्यू’ है.

मेघालय की झीलें इतनी खूबसूरत हैं कि आपका वापस आने को मन नहीं करेगा. यहाँ उमिआम लेक का नजारा देखकर तो तबीयत नहीं भरेगी.

शिलांग से करीब 60 किमी की दूरी पर चेरापूंजी स्थित है जो भारत का सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान है. यहाँ स्थित नोह्कलिकई जलप्रपात को आप ज़िन्दगी भर भूल नहीं पायेंगे.

प्राकृतिक दृश्यों के अलावा शिलांग शहर भी अपने आप में अनूठा और दर्शनीय है जो आपको आम भारतीय शहरों से हटकर एक अलग ही अनुभव देगा. यहाँ की वास्तुकला और खानपान में आपको ब्रिटिश कल्चर की झलक नजर आएगी.

तो कब जा रहे हैं शिलांग ?

(Photos : megtourism.gov.in, Google)

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY