‘इश्क़’ के ऊपर लिखे गए ये 20 चुनिन्दा शेर आपकी शाम को...

‘इश्क़’ के ऊपर लिखे गए ये 20 चुनिन्दा शेर आपकी शाम को रूमानी बना देंगे

0
SHARE

A Few Best classical sher-o-shayari of top Urdu poets on the topic of ‘Ishq’ (in Hindi) – 

ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है

Yeh ishq nahi aasaan bas itna samajh leeje, ik aag ka dariya hai aur doob ke jaana hai

राह-ए-दौर-ए-इश्क में रोता है क्या
आगे आगे देखिये होता है क्या

Raah-e-daur-e-ishq me’n rota hai kya, aage aage dekhiye hota hai kya

********

मकतब-ए-इश्क का दस्तूर निराला देखा
उसको छुट्टी न मिली जिसको सबक याद हुआ

Maqtab-e-ishq ka dastoor nirala dekha, usko chhutti na mili jisko sabak yaad hua

*********

सख्त काफिर था जिस ने पहले ‘मीर’
मज़हब-ए-इश्क इख्तियार किया

Sakht kaafir tha jis ne pahle ‘Meer’, mazhab-e-ishq ikhtiyaar kiya

*********

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क के इम्तेहाँ और भी हैं

Sitaaron se aage jahaan aur bhi hain, abhi ishq ke imtehaan aur bhi hain

*********

आग थे इब्तिदा-ए-इश्क में हम
हो गए खाक़ इंतिहा है ये

Aag the ibtida-e-ishq me’n ham, ho gaye khaaq intiha hai ye

*********

इश्क इक ‘मीर’ भारी पत्थर है
कब ये तुझ ना-तवाँ से उठता है

Ishq ik ‘Meer’ bhaari patthar hai , kab ye tujh naa-tavaan se uthata hai

*********

इश्क जब तक न कर चुके रुस्वा
आदमी काम का नहीं होता

Ishq jab tak na kar chuke rusvaa, aadmi kaam ka nahi hota

*********

इश्क नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद
अक्ल का बोझ उठा नहीं सकता

Ishq naazuk-mizaaj hai behad, aql ka bojh utha nahi sakta

*********

इश्क ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ishq ne ‘Ghalib’ nikamma kar diya, varna ham bhi aadmi the kaam ke

*********

इश्क पर जोर नहीं ये वो आतश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Ishq par zor nahi ye vo aatash ‘Ghalib’, ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bane

*********

इश्क में ख़्वाब का ख़याल किसे
न लगी आँख जब से आँख लगी

Ishq men khvaab ka khayaal kise, na lagi aankh jab se aankh lagi

*********

इश्क में भी कोई अंजाम हुआ करता है
इश्क में याद है आग़ाज़ ही आग़ाज़ मुझे

Ishq men bhi koi anzaam hua karta hai, ishq men yaad hai aagaaz hi aagaaz mujhe

*********

इश्क है इश्क ये मज़ाक नहीं
चंद लम्हों में फैसला न करो

Ishq hai ishq ye mazaak nahi, chand lamhon men faisla na karo

**********

कुछ खेल नहीं है इश्क करना
ये ज़िन्दगी भर का रत-जगा है

Kuchh khel nahi hai ishq karna, ye zindagi bhar ka rat-jagaa hai

*********

कूचा-ए-इश्क में निकल आया
जिस का खाना-खराब होना था

Koocha-e-ishq men nikal aaya, jis ka khana-kharab hona tha

**********

जज़्बा-ए-इश्क सलामत है तो इंशा-अल्लाह
कच्चे धागे से चले आयेंगे सरकार बंधे

Jazbaa-e-ishq salamat hai to insha-allah, kachche dhage se chale aayenge sarkar bandhe

**********

जिसे इश्क का तीर कारी लगे
उसे ज़िन्दगी क्यूँ न भारी लगे

Jise ishq ka teer kaari lage, use zindagi kyuun na bhaari lage

*********

कोई समझे तो एक बात कहूँ
इश्क तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

Koi samjhe to ek baat kahuun, ishq taufeeq hai gunaah nahi

**********

mohabbat-shayari-1

Ai mohabbat tire anjaam pe rona aaya, jaane kyuun aaj tire naam pe rona aaya

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY