वो आदमी, जिसकी मौत के बाद मोटरसाइकिल पर हेलमेट पहनने का चलन...

वो आदमी, जिसकी मौत के बाद मोटरसाइकिल पर हेलमेट पहनने का चलन आरम्भ हुआ

0
SHARE

यूँ तो युद्ध के दौरान योद्धाओं द्वारा हेलमेट पहनने का चलन बहुत पुराना है लेकिन मोटरसाइकिल पर हेलमेट पहनने का चलन एक आदमी की मौत के बाद के शुरू हुआ जिसे ‘Lawrence of Arabia’ के नाम से जाना जाता था.

16  अगस्त 1888 को जन्मे बहुमुखी प्रतिभा के धनी Thomas Edward Lawrence एक ब्रिटिश पुरातत्वविद, सैन्य अधिकारी, कूटनीतिज्ञ और लेखक थे. उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान ओटोमन साम्राज्य के विरुद्ध हुए अरबों के विद्रोह में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. वे ब्रिटिश सेना और अरबों के बीच संपर्क सूत्र का काम करते थे.

उन्होंने कई बार अरबों के साथ मिलकर ओटोमन सेना के विरुद्ध संचालित हुए सैन्य अभियानों का भी नेतृत्व किया. इस दौरान लॉरेंस अरबों के बीच इतने लोकप्रिय हो गए थे कि उन्हें ‘लॉरेंस ऑफ़ अरबिया’ कहा जाने लगा था. उन्होंने अरब विद्रोह में अपनी भूमिका पर ‘Seven Pillars of Wisdom’ शीर्षक से एक किताब भी लिखी जो बहुत लोकप्रिय हुई.

लॉरेंस मोटरसाइकिल चलाने के बहुत शौक़ीन थे. उनके पास 8 Brough SS80 मोटरसाइकिलें थीं. वे अपनी मोटरसाइकिलों का नामकरण भी करते थे जो George से शुरू होते थे.

1935 के मई महीने की बात है. एक दिन वे अपनी George VII (जो कि उनकी सातवें नंबर की मोटरसाइकिल थी) से कहीं जा रहे थे कि अचानक सामने उन्हें साइकिल चलाते हुए दो बच्चे दिखे. वहीं सड़क पर एक गड्ढा भी था. बच्चों और गड्ढे को बचाने के चक्कर में उनका बैलेंस ऐसा  बिगड़ा कि वे सिर के बल सड़क पर गिरे.

इस दुर्घटना में उनके सिर में गंभीर चोटें आईं और आखिरकार 6 दिनों तक अस्पताल में कोमा में रहने के बाद उनकी मृत्यु हो गई. ज्ञातव्य है उस समय मोटरसाइकिल पर हेलमेट पहनने का चलन नहीं था.

लॉरेंस का इलाज कर रहे न्यूरोसर्जन Hugh Cairns ने उनकी मृत्यु के बाद मोटर साइकिल सवारों की सिर की चोटों से होने वाली मौतों पर गहरा अध्ययन किया और एक रिसर्च रिपोर्ट प्रस्तुत की. उनकी यह रिसर्च ही आगे जाकर मोटरसाइकिल के लिए हेलमेट के निर्माण और चलन में आने का आधार बनी.

(Source : Wikipedia, Quora)

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY