एक अरबपति ने अपने गांववालों के लिए ढाई सौ लक्ज़री घर बनवाये...

एक अरबपति ने अपने गांववालों के लिए ढाई सौ लक्ज़री घर बनवाये लेकिन …

0
SHARE

दुनिया के जयादातर अमीर एक बार पैसे वाले बनने के बाद अपने गाँव, जन्मभूमि के बारे में ज्यादा नहीं सोचते. वे बड़े शहरों में रहने के आदी हो जाते हैं और शायद ही कभी अपने गाँव की सुध लेने जाते हों. लेकिन क्यों नहीं सोचते ? शायद इसका कारण इस खबर में छुपा है जो चीन से आई है.

आज से लगभग पांच साल पहले चीन की एक ड्रिंक्स कंपनी Tiandi No. 1 के मालिक चेन शेंग ने सोचा कि बहुत पैसे कमा लिए अब अपने गाँव के लिए कुछ किया जाए. उन्होंने करीब 32 मिलियन डॉलर की एक योजना बनाई जिसके तहत अपने सभी गाँव वालों के लिए आलीशान तीन मंजिला लक्ज़री घर बनाने का फैसला लिया. इसके लिए उन्हें गाँव से लगी हुई जमीन भी मिल गई.

पिछले साल ये सारे घर बनकर तैयार भी हो गए लेकिन आज तक उन मकानों में कोई रहने नहीं आया. कारण ? जी नहीं, चेन शेंग अपने गाँव वालों से इन मकानों के पैसे नहीं मांग रहे हैं. वे तो ये मकान मुफ्त, उपहार में दे रहे हैं. वजह कुछ और ही है.

दरअसल चेन शेंग के गाँव में पहले कुल घरों की संख्या 190 थी. लेकिन बड़े दिल वाले चेन शेंग ने 68 मकान ज्यादा बनवा दिए. अब ये 68 मकान ही झगड़े की जड़ बने हुए हैं और कोई भी रहने नहीं आ पा रहा.

दरअसल हर गांववाला इन बढ़े हुए 68 मकानों में से एक मकान हथियाना चाहता है. सबको दो दो घर चाहिए जो कि संभव नहीं हो पा रहा है. इन मकानों पर कब्जे को लेकर गांववाले आपस में झगडा करने पर उतारू हैं लिहाजा अभी तक किसी भी घर में कोई नहीं रह रहा है.

जो गांववाले अभी तक छोटे छोटे कच्चे पक्के मकानों में आराम से रहते आ रहे थे, अचानक उन्हें ये बड़े बड़े आलीशान घर छोटे लगने लगे हैं. किसी को अपने बेटे बहू के लिए अलग घर चाहिए तो कोई भविष्य में अपने बेटे की शादी होने पर उसके लिए अभी से घर कब्ज़ा कर रखना चाहता है.

बेचारे चेन शेंग अपने गाँव वालों की इस लालची सोच से इतने दुखी हैं कि उन्होंने अब कभी गाँव न जाने का ही फैसला कर लिया है. एक बार समझाने गए थे पर गांववालों ने उन्हें ही लौटकर समझा दिया.

बहरहाल, नया लक्ज़री गाँव अभी वीरान पड़ा है. कभी कभार कुछ उत्पाती तत्व गाँव में घूमने चले आते हैं और खिडकियों के शीशे तोड़ताड़ कर चले जाते हैं.

(Source : OddityCentral)

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY