बॉलीवुड का ‘डिस्को डांसर’, जिसने अपनी पहली ही फिल्म में नेशनल अवार्ड...

बॉलीवुड का ‘डिस्को डांसर’, जिसने अपनी पहली ही फिल्म में नेशनल अवार्ड जीता था

0
SHARE

एक दौर था जब सिनेमा की टिकट खिड़की पर भीड़ जुटाने के लिए अमिताभ बच्चन का पोस्टर पर नाम ही काफी होता था. उसी दौर में एक और अभिनेता भी था जो अपनी फिल्मों के माध्यम से उनके स्टारडम को चुनौती देता नजर आता था. उस अभिनेता का नाम था मिथुन चक्रवर्ती. लोग अगर अमिताभ की एंग्री यंग मैन वाली छवि से इम्प्रेस थे तो मिथुन के डिस्को डांस के भी उतने ही दीवाने थे.
अपने फ़िल्मी करियर के दौरान बुलंदियों को छूने वाले मिथुन चक्रबर्ती का असली नाम गौरांग चक्रवर्ती है और उनका जन्म एक बंगाली परिवार में 16 जून 1950 को हुआ था. उन्होंने अपनी पढ़ाई कोलकाता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से जहां से उन्होंने रसायन विज्ञान में स्नातक किया. उसके बाद वे भारतीय फ़िल्म और टेलीविजन संस्थान, पुणे से जुड़े और वहीं से स्नातक भी किया.

मिथुन के बारे में कहा जाता है कि वे फिल्मों में आने से पहले कट्टर नक्सली थे. लेकिन अपने इकलौते भाई की दुर्घटना में मृत्यु होने के बाद वे परिवार में लौट आये और नक्सली आन्दोलन से खुद को अलग कर लिया.
मिथुन चक्रवर्ती को पहला ब्रेक मृणाल सेन ने अपनी फिल्म ‘मृगया’ में दिया था. अपनी इस पहली ही फिल्म में मिथुन ने इतना दमदार अभिनय किया कि उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ. हालांकि इसके बावजूद उन्हें बॉलीवुड में अपनी जगह बनाने के लिए लम्बा संघर्ष करना पड़ा क्योंकि उनकी शक्लोसूरत हिंदी फिल्मों के पारंपरिक नायकों जैसी नहीं थी.

फिर 1982 के आखिर में ‘डिस्को डांसर’ आई जिसने उन्हें रातों रात शिखर सितारा बना दिया. 1985 में आई के.सी. बोकाडिया की ‘प्यार झुकता नहीं’ ने तो सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किये. इतने साल बाद भी मिथुन की इस फिल्म के गाने आज भी लोग गुनगुनाते हुए मिल जाते हैं.

लेकिन ऐसा नहीं है कि एक बार सफलता का स्वाद चखने के बाद मिथुन ने असफलता का स्वाद नहीं चखा. एक दौर ऐसा भी आया जब उनकी दर्जन भर फ़िल्में लगातार फ्लॉप होती गईं. लेकिन मिथुन वह इंसान नहीं थे जो असफलताओं से घबरा जाते. उन्होंने दक्षिण भारत के ऊटी में ‘मोनार्क’ नामक एक फाइव स्टार होटल और फिल्म स्टूडियो बनाया जहां कम समय और कम लागत में फिल्में बनाने की एक फैक्ट्री खोल दी.

निर्माता अपनी सीमित पूंजी के साथ ऊटी जाते और तीन महीने में मिथुन अभिनीत फ़िल्में बना कर ले आते. कम बजट और अल्प समय में बनी होने के कारण ये फ़िल्में निर्माता के लिए लाभ का सौदा साबित होतीं और मिथुन को भी लाभ होता. आपको जानकर हैरत होगी कि मिथुन की इन्हीं फिल्मों ने उस जमाने में देश के तमाम छोटे सिनेमाघरों को भी बंद होने से  बचाया.
मिथुन ने अभिनेत्री योगिता बाली से शादी की. उनके चार बच्चे हैं, तीन बेटे और एक बेटी. एक समय में उनके श्रीदेवी से रिश्ते की भी अफवाहें भी खूब गर्म रहीं. लोग यहाँ तक कहने लगे थे कि उन्होंने श्रीदेवी से शादी कर ली है. बाद में श्रीदेवी ने बोनी कपूर से शादी करके इन अटकलों को विराम दे दिया.

मिथुन ने अपने फ़िल्मी करियर में तीन सौ से अधिक फिल्मों में काम किया और अपनी दूसरी पारी में वे आज भी परदे पर सक्रिय हैं. अक्षयकुमार के साथ आई उनकी हालिया फिल्म “ओह माय गॉड” में उनका रोल काफी चर्चित रहा. इसके अलावा बीते कुछ सालों से वे टेलीविज़न पर भी सक्रिय हैं. ‘डांस इंडिया डांस’ नामक टीवी शो में ग्रैंड जज के रूप में दर्शकों ने उन्हें सर आँखों पर बिठाया था.

मिथुन दा को जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं ….

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY