एक अखबार सिर्फ अच्छी खबरों के लिए

एक अखबार सिर्फ अच्छी खबरों के लिए

15
SHARE

किसी भी तारीख का कोई सा भी अखबार उठाकर देख लीजिए. भ्रष्टाचार, हत्या, डकैती या बलात्कार जैसी बुरी ख़बरें ही प्रमुखता से छपी होंगी. अच्छी खबर यदि कोई छपी भी होगी तो इस तरह कि उसे ढूँढने के लिए आपको अखबार बहुत ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा. बुरी ख़बरें सनसनी पैदा करती हैं और इसीलिए उन्हें प्रमुखता से छापा भी जाता है.

लेकिन क्रोएशिया से निकलने वाले एक अखबार के संपादक की सोच  कुछ अलग है.  उनका नाम एलन गेलोविक है और उनके अखबार में सिर्फ और सिर्फ अच्छी ख़बरें ही छापी जाती हैं.

वे मंत्रियों के भ्रष्टाचार की ख़बरें नहीं छापते, बल्कि उस हज्जाम के बारे में लिखते हैं जो अनाथ बच्चों के बाल मुफ्त में काटता है.  डाके और बलात्कार की रिपोर्टिंग करने के बजाय वे एक कुत्ते का जीवन बचाने के लिए चलाये गए बचाव अभियान को प्रमुखता से छापते हैं.

सच तो ये है कि हम सभी अच्छी ख़बरें ही पढ़ना-सुनना चाहते हैं लेकिन हमें बुरी ख़बरें ही ज्यादा परोसी जाती हैं. 

बहरहाल, “24 Sata” नामक इस अच्छे अखबार से जुड़े सभी लोग साधुवाद के पात्र हैं. हमारी शुभकामनायें.

(Based on information from – Yahoo News, Dated 02/01/2011)

 

15 COMMENTS

  1. aaj ke time me bhrastachar itna bad gaya hai ki use sunne aur uske bare me janne kje baad hame dukh ke alawa kuchh nahi hota. aise me jo akhwar itni achchi khabro ko prathmikta de raha hai use Dilip yadav ka salam…….

    dilip yadav
    +91-9630440436

  2. ऐसी रोचक एवं ज्ञान वर्धक जानकारी देना आपकी संवेदन शीलता को दर्शाता है जो की आज दुर्लभ प्राय है …… मेरा असीम स्नेह स्वीकारें

  3. जान कर अच्छा लगा के दुनिया में कुछ लोग तो ऐसे हैं जो अच्छाई को देखना और दिखाना चाहते हैं.
    २४ सता ही असल medea का काम कर रही है.
    मैं इस के संपादक और इस में काम करने वालों को दिल से salute करता हूँ.

  4. Today Every person wants to hear this type of New but Due to Corruption , People read Corruption news.
    Today It necessary to read Good News, after reading Good News People think to do thats type.
    “24 Sata” is A Realy Good News Paper, And I Salute All People Who Related to This News Paper.

  5. At this time is so strange but happy news that “24 sata” is publishing only positive news only. This world is the cycle of actions and such these days we are complaining for corruption, bad peoples, bad climate, bad news, nagative atmosphere and so more nagativity surrounding here and there. As you think you will become. Jaisa sochoge vese ban jaoge. This world can be changed and we may also see positivity in this world in place of so nagative atmosphere, if we can understand the law of Nature, if we can understand the true meaning of the holly slogan of Goswami Tulsi Das Ji quoted in “SHRI RAM CHARIT MANAS” –
    KARAM PRADHAN, VISHVA RACH RAKHA
    JO JAS KEEN, TAAS PHAL CHAKHA
    “Karam ki pradhanta ki vajah se yeh sansar chal raha hai or (and) jo jaisa karta hai usko vaisa hi phal milta hai.”
    If we can understand only this slogan then this world be a “SWARAG” haven for us. A best task by “24 SATA” on this earth. Like this Param Sant Baljit Singh Maharaj, Chief petron of Vishva Manav Ruhani Kendra, Navanagar (Haryana) India – tel. 09218467241 – (branches are mostly in other country also ) is doing a holly work by connecting human beings in their inner self with soul so that every one can be realise as a soul can be protect themselves from every nagativity in this world and live a life like a happy human being and also can reach on the destination for which this man is born – to meet our GOD in our inner selves.

  6. बहुत ही सार्थक प्रयास है आप बढ़ते रहें सफलता निश्चित है !!!!

  7. जिसने भी यह प्रयास किया है,आगे चल कर यह एक बहुत सार्थक प्रयास साबित होगा!!

  8. आज अखवार केवल समाचारपत्र ही नहीं ह समाज का दर्पण है समाज मई अछे बुरे जो भी कम हो सबकी जानकारी देना चाहिए ताकि बुरे कम न करे और अछे कम करके समाज का भला करई

  9. Aap ka karya sarhaniy h,bahut accha lagta h, aapka paper pad kar,aajkal aesi batien koi bi paper nahi likhta h..vo khavat h na.”-andhe ko andha mile rah dikhave vala kam ho gya…aap bhatke yuva pidmi k liye prerna ka kam kar rhe h

  10. Aaj tak maine bahut se akhwar padhe lekin mujhe us akhwar ko padhne ke baad afsos zrur huwa lekin pahli baar maine aisa akhwar padha isko padhne ke baad kuch sukun mila aur dil ko khushi huwi ke is andheri duniya me bhi abhi ku6h log hain jo janta ki bhalai sochte hain. Is akhwar ke nikaln walo ko meri tahe dil se murakbad

LEAVE A REPLY