सच बोला तो मुसीबत, झूठ बोला तो भी मुसीबत

सच बोला तो मुसीबत, झूठ बोला तो भी मुसीबत

2
SHARE

इस  सिचुएशन  के लिए कोई यथोचित कहावत मुझे फ़िलहाल सूझ नहीं रही है, अलबत्ता हमारे पुरखों ने गढ़ी तो जरूर होगी.

किस्सा मोंटाना का है. एक आदमी जो तीन-तीन संगीन अपराधों में वांछित था, ट्रेफिक पुलिस द्वारा रूटीन चेक के दौरान रोक लिया गया.  जब पुलिस ने उससे उसका नाम पूछा तो पकड़े जाने के डर की वजह से उसने अपने नाम की जगह एक  मनगढंत नाम बता दिया.

और बस, यहीं उसके भाग्य ने धोखा दे दिया क्योंकि जो मनगढंत नाम उसने बताया, उस नाम के एक अपराधी की पुलिस को पहले से ही तलाश थी.

उसे फ़ौरन गिरफ्तार कर लिया गया. असलियत तो बाद में पुलिस  स्टेशन जाकर पता चली कि ये  जनाब  वो नहीं  बल्कि  कोई और हैं और इनके नाम से तीन-तीन वारंट निकले हुए हैं.

बहरहाल, अब  उस पर अपराधों की संख्या तीन से बढ़कर  चार हो गई है  क्योंकि पुलिस को गलत जानकारी देने का एक मामला और दर्ज कर लिया गया है.     

——————————————————————-

(Based on Information from Yahoo News. Dated 08/01/2011)

 

2 COMMENTS

  1. Dost ke liye ajb mishal hai hum sache dost ki pehchan hai hum ye to nhi kahte hum shultan mirza he mumbai ke lekin ” jaipur ‘ ke ” TEES MAAR KHAAN HAI HUM”
    Naveeen& Nimesh

LEAVE A REPLY