ठगने गए थे, खुद ठगे गए

ठगने गए थे, खुद ठगे गए

4
SHARE

यूँ तो ठग बड़े सयाने होते हैं और लोगों को अपना शिकार बनाते ही रहते हैं लेकिन कभी न कभी होशियार से होशियार ठग से भी भूल हो ही जाती है.

अमेरिकी कस्बे रैंडॉल्फ में जॉनी बट्स नामक एक ठग एक  ज्वेलरी स्टोर के मालिक को अपना शिकार बनाने की नीयत से उसकी दुकान में पहुँच गया. ठग ने सोने का एक कंगन निकाल कर दुकानदार को दिखाया और कहा कि वह इसे बेचना चाहता है.  दुकानदार ने कंगन देखते ही ताड़ लिया कि सोना नकली है.

हो सकता है कि किसी और दुकान पर सोने की असलियत खुल जाने पर ठग शायद वहाँ से बचकर निकल भी जाता, पर इस दुकान से बचकर निकल जाना उसके लिए संभव नहीं हो सका क्योंकि वह दुकानदार, ज्वेलरी स्टोर का मालिक होने के साथ-साथ उस कस्बे का पुलिस चीफ भी था.  यह बात ठग को मालूम नहीं थी और ड्यूटी पर न होने के कारण उसने वर्दी भी नहीं पहनी हुई थी.

फ़िलहाल ठग महाशय, मि. जॉनी बट्स, पुलिस की मेहमान-नवाजी का लुत्फ़ उठा रहे हैं.

—————————————————————————————————

(Based on News from Yahoo News, 23-01-11)

 

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY