मोटा हूँ तो क्या बैठ नहीं सकता ?

मोटा हूँ तो क्या बैठ नहीं सकता ?

5
SHARE

एक मोटे आदमी ने एक रेस्तरां के ऊपर इसलिए मुकदमा ठोक दिया है क्योंकि उस रेस्तरां की सीटें उसके  आकार के लिहाज से छोटी हैं और वह आराम से बैठ नहीं  पाता है.

पेशे से स्टॉक ब्रोकर, मार्टिन केसमैन, थोड़े से मोटे हैं, वजन है  मात्र 290 पाउंड (लगभग 131 किलोग्राम ). फास्टफूड खाने के शौक़ीन है.  न्यू योंर्क स्थित व्हाइट कैसल नामक रेस्तरां में अक्सर जाते रहते हैं.

लगभग 2 साल से मार्टिन रेस्तरां के मैनेजमेंट से शिकायत कर रहे थे कि रेस्तरां की सीटें उनके साइज के हिसाब से छोटी हैं और वे ठीक ढंग से बैठ नहीं पाते हैं. मगर किसी ने उनकी शिकायत पर गौर नहीं किया.

जरूर उस रेस्तरां के खाने में कुछ ऐसी बात रही होगी कि मार्टिन असुविधा के बावजूद वहाँ जाने से खुद को रोक भी नहीं पा रहे थे. इसलिए अंततः मार्टिन ने रेस्तरां के ऊपर मुकदमा ठोक दिया है.

देखते हैं अदालत क्या फैसला करती है.

——————————————————————————————————————————–
(Based on Media news reports, 13-09-2011)

 

5 COMMENTS

  1. भाई मोटे तो हम भी थे(१०० किलोग्राम). लेकिन हमें सीट बड़ी करवाने के बजाए अपना आकर छोटा करना आसन लगा. और यहाँ एक कहावत है, “जिसके हाथ का खाना खाओ, उसकी थाली में छेद मत करो”.

    अब हमारा वजन बार किलो कम हुआ है. पर मोटा होना उतना बुरा नहीं होता जितना अपने मोटापे की वजह से दुसरोंका आप पे तरस खाना. लेकिन उससे भी ज्यादा बुरा होता हैं ऐसे लोगो की वजह से हमारा बेइज्जत होना.

  2. अदालत को मोटे आदमी की सुननी चाहिये क्योकि सभी को देखते हुए सीट बनानी चाहिये /

LEAVE A REPLY