इनके पत्र के कारण भारतीय ट्रेनों में पहली बार लगाए गए थे...

इनके पत्र के कारण भारतीय ट्रेनों में पहली बार लगाए गए थे शौचालय

0
SHARE

अगली बार जब आप किसी ट्रेन में शौचालय का उपयोग करें तो ओखिल चन्द्र सेन का धन्यवाद करना न भूलें, क्योंकि उन्हीं के एक पत्र के कारण भारतीय ट्रेनों में पहली बार शौचालय लगाए गए थे. इससे पहले यह व्यवस्था भारतीय ट्रेनों में नहीं होती थी.

indian-train

यह पत्र बिहार के ओखिल बाबू ने 1909 में रेलवे के साहिबगंज डिवीजनल कार्यालय को लिखा था, जिसके बाद ही ट्रेनों में शौचालय बनाने का प्रस्ताव लाया गया. यह पत्र भारतीय रेलवे के इतिहास में एक महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है और दिल्ली के नेशनल रेलवे म्यूजियम में चस्पा है.

ओखिल बाबू ने यह पत्र बड़ी ही मजेदार अंग्रेजी में लिखा था जिसमें उन्होंने अपनी रेल यात्रा के दौरान टॉयलेट न होने की वजह से होने वाली परेशानी का जिक्र किया है. आप भी पढ़िए –

“I am arrive by passenger train Ahmedpur station and my belly is too much swelling with jackfruit. I am therefore went to privy. Just I doing the nuisance that guard making whistle blow for train to go off and I am running with ‘lotah’ in one hand and ‘dhoti’ in the next when I am fall over and expose all my shocking to man and female women on plateform. I am got leaved at Ahmedpur station.

“This too much bad, if passenger go to make dung that dam guard not wait train five minutes for him. I am therefore pray your honour to make big fine on that guard for public sake. Otherwise I am making big report! to papers.”

इसका हिंदी रूपान्तर कुछ यूँ होगा –

“मैं पैसेंजर ट्रेन से अहमदपुर स्टेशन  आया और मेरा पेट कटहल की तरह फुल रहा था। मैं शौच के लिए वहां एकांत में गया। मैं शौच से निवृत्त हो ही रहा था कि ट्रेन चल पड़ी। मैं एक हाथ में लोटा और दूसरे हाथ में धोती पकड़कर दौड़ा, लेकिन रेल पटरी पर गिर पड़ा। मेरी धोती खुल गई और मुझे वहां मौजूद सभी महिला-पुरुषों के सामने शर्मिंदा होना पड़ा। मेरी ट्रेन छूट गई और मैं अहमदपुर स्टेशन पर ही रह गया। यह बहुत बुरा है कि जब कोई व्यक्ति टॉयलेट के लिए जाता है तो क्या गार्ड ट्रेन को पांच मिनट भी नहीं रोक सकता।

मैं आपके अधिकारियों से गुजारिश करता हूं कि जनता की भलाई के लिए उस गार्ड पर भारी जुर्माना  लगाया जाए। अगर ऐसा नहीं होगा तो मैं इसे अखबार में छपवाऊंगा।”

हालांकि ओखिल बाबू ने पत्र सिर्फ गार्ड को सजा दिलवाने के मकसद से लिखा था जिसने उनके निवृत होने के पहले ही सीटी बजा दी थी और उनकी ट्रेन चली गई थी. लेकिन यही पत्र ट्रेनों में शौचालय लगाने के विचार का आधार बना और  आखिर भारत में ट्रेन चलने के 55 साल बाद कोचों में शौचालय लगाने की शुरुआत हुई.

(Source)

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY