Home Blog Page 572

प्रेम

प्रेम भूख से नहीं, कब्ज से मरता है।

बाहुल्य

किताबों का बाहुल्य हमें अज्ञानी बना रहा है।

मजहब एक

पैसे के मामले में सबका मजहब एक है।

वक्त

हमें जीना चाहिए और सीखना चाहिए; लेकिन जब हमारा सीखना खत्म होता है तब जीने के लिए वक्त नहीं रह जाता।

जो कर नहीं सकते …

जो कर नहीं सकते, वे सिखाने लगते हैं।

साहित्य और पत्रकारिता में फर्क

साहित्य और पत्रकारिता में फर्क यह है कि पत्रकारिता पढ़ने लायक नहीं होती और साहित्य पढ़ा नहीं जाता ।

धूर्त

नैतिकता का पाठ बघारनेवाला अक्सर धूर्त होता है।

अन्तर

सन्त और पापी में केवल यह अन्तर है कि हर सन्त का एक भूतकाल होता है और हर पापी का एक भविष्य।

बड़ा बेवकूफ

वह बेवकूफ है जो शादी करता है, लेकिन जो बेवकूफ से शादी नहीं करता वह और भी बड़ा बेवकूफ है।

प्रेरणा

औरतें अक्सर हमें महान कार्यों की प्रेरणा देती हैं और उन्हीं को करने नहीं देतीं।

Connect With Us

672,871FansLike

News

Bollywood

Humour