राजा की तस्वीर (Interesting Story)

राजा की तस्वीर (Interesting Story)

0
SHARE

सैकड़ों साल पहले किसी राज्य में एक राजा राज्य करता था. राजा बेहद क्रोधी, लेकिन वीर था और उसकी पूरी जवानी युद्ध करते बीती थी. ऐसे ही किसी एक युद्ध के दौरान उसकी एक आँख और एक टांग जाती रही थी.

एक बार राजा के मन में विचार आया कि अपनी एक तस्वीर बनवाई जाए और उसे राजमहल में लगाया जाए. अब उस ज़माने में कैमरे तो थे नहीं, सो देश-विदेश के नामी चित्रकारों को बुलाया गया. राजा ने सभी चित्रकारों को दरबार में बुलाकर कहा कि जो भी चित्रकार उसकी सबसे सुन्दर तस्वीर बनाएगा उसे मुँहमांगा इनाम दिया जाएगा.

सभी चित्रकार एक-दूसरे का मुँह ताकने लगे क्योंकि राजा एक तो लंगड़ा था और ऊपर से काना … इसकी सुन्दर तस्वीर कैसे बनेगी ? वे सभी राजा के क्रोधी स्वभाव से भी भलीभांति परिचित थे. यदि कहीं यह नाराज हो गया तो सीधे सर कलम करवा देगा.

किसी भी चित्रकार के मुँह से बोल न फूटा.

आखिरकार एक चित्रकार उठकर खड़ा हुआ और बोला कि मैं महाराज की तस्वीर बनाऊँगा.

दरबार में उपस्थित सभी दरबारी और चित्रकार उसे हैरानी से देखते हुए सोचने लगे कि इसका मरना तो तय है. इस राजा की सुन्दर तस्वीर तो बन ही नहीं सकती.

खैर, चित्रकार ने लगभग एक महीने में राजा की एक तस्वीर बनाई और राजा को दिखाई. राजा ने तस्वीर देखी तो देखता ही रह गया. सभी दरबारियों ने भी जब तस्वीर देखी तो वाह-वाह कर उठे.

राजा इतना प्रसन्न हुआ कि उसने चित्रकार को धन-दौलत से लाद दिया. फिर उसे ज़िन्दगी भर कुछ भी करने की जरूरत न रही.

दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि उस चित्रकार ने राजा की कैसी तस्वीर बनाई थी ?

हम बताते हैं, उस चित्र में राजा एक टांग मोड़ कर अपने रथ पर योद्धा की तरह बैठा हुआ था और हाथ में धनुष-बाण लिए, एक आँख बंद कर के शत्रु पर निशाना लगा रहा था.

चित्रकार ने अपनी कल्पना-शक्ति का प्रयोग करते हुए राजा की कमियों को कुछ इस तरह प्रदर्शित किया कि वे खूबियों में बदल गईं. इसीलिये राजा, जो कि एक जन्मजात योद्धा था, इतना प्रसन्न हुआ.

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY