शादी का इरादा

शादी का इरादा

0
SHARE

मिस्टर शरीफचन्द पैंतीस के हो चुके थे, अच्छी-खासी नौकरी करते थे,  पर अभी तक अविवाहित थे.

एक दिन एक दोस्त ने टोक ही दिया – “अरे भाई शरीफचन्द जी, शादी-वादी करने का इरादा है कि नहीं … क्या बुढापे में करोगे ?”

shaadi-ka-iraada-1

 

शरीफ चन्द बोले – “कोशिश तो पूरी कर रहा हूँ कि जल्दी ही हो जाए. अखबारों में विज्ञापन दिया हुआ है, इन्टरनेट पर भी बायोडाटा डाल रखा है …”

दोस्त – “तो फिर किसी का जवाब नहीं आया क्या ?”

शरीफचन्द – “आया है न ! बहुत सी बहनों ने अपना बायो-डाटा भेजा है …. बस उन्हीं पर विचार चल रहा है !!!”

*दोस्त बेहोश*

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY