वाशिंगटन सुन्दर के नाम के पीछे भी एक कहानी है

वाशिंगटन सुन्दर के नाम के पीछे भी एक कहानी है

0
SHARE

फाइनल मैच में 8 गेंदों में 29 रन की धमाकेदार पारी खेलकर भारतीय टीम के विकेट कीपर दिनेश कार्तिक कल से ही मीडिया की सुर्ख़ियों में बने हुए हैं. लेकिन एक और खिलाड़ी है जिसने इस टूर्नामेंट के दौरान अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया और मैन ऑफ़ थे सीरीज रहा. उसका नाम है वाशिंगटन सुन्दर.

18 साल के तमिलनाडु के इस क्रिकेटर ने निदाहास ट्राफी में आठ विकेट चटकाए. लेकिन यहाँ हम उनके खेल के बारे में नहीं बल्कि उनके नाम के बारे में बात करेंगे. एक हिन्दू परिवार से होने के बावजूद उनका नाम कुछ ऐसा है कि लोग एक बार सोचने लगते हैं कि आखिर इनका नाम वाशिंगटन क्यों है ? क्या इनका अमेरिका से कोई कनेक्शन है ? कहीं इनका जन्म वाशिंगटन डीसी में तो नहीं हुआ ?

Image : ZeeNews

लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है. दरअसल वाशिंगटन सुन्दर का नाम तो उनके पिता ने कुछ और ही रखा था पर वह नाम बाद में पिता ने ही बदल दिया. इसके पीछे की कहानी सुन्दर के पिता ने खुद एक बार द हिन्दू को बताई थी.

दरअसल वाशिंगटन सुन्दर के पिता एम. सुन्दर भी क्रिकेट खेलने के शौक़ीन थे पर उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी. उनके घर से कुछ ही दूरी पर एक रिटायर्ड फौजी रहते थे जिनका नाम था पी.डी. वाशिंगटन.

सुन्दर सीनियर के अनुसार पी.डी. वाशिंगटन बहुत ही अच्छे स्वभाव के व्यक्ति थे और क्रिकेट के शौक़ीन थे. अक्सर वे उनका खेल देखने मरीना ग्राउंड पहुँच जाया करते थे. वे कई बार उनकी मदद किया करते थे. वे उनकी फीस भर देते थे, किताबें खरीद देते थे तो कभी यूनिफार्म दिलवा देते थे.

एम सुन्दर ने बताया कि पी.डी. वाशिंगटन के प्रोत्साहन के फलस्वरूप वे TNCA की तरफ से फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने तक पहुँच गए. वे उनकी हौसलाअफजाई और मदद करने के लिए हमेशा तत्पर रहते.

1999 में पी.डी. वाशिंगटन साहब का निधन हो गया. इसके कुछ ही महीनों बाद एम सुन्दर के घर बेटे ने जन्म लिया. हिन्दू रीति रिवाजों के अनुसार उन्होंने बच्चे के नामकरण हेतु उसके कान में कहा, “श्रीनिवासन”. लेकिन बाद में उन्हें लगा कि बेटे का नाम उस व्यक्ति के नाम पर रखना चाहिए जिसने उनके लिए जीवन में बहुत कुछ किया.

और बस, वे अपने बेटे को वाशिंगटन के नाम से बुलाने लगे. तो ये थी वाशिंगटन सुन्दर के नाम के पीछे की कहानी. उनके पिता तो पी.डी. वाशिंगटन से इतने प्रभावित थे कि उन्होंने कहा कि यदि उनके घर कोई दूसरा बेटा जन्म लेता तो वे उसका नाम वाशिंगटन जूनियर रख देते.

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY