Home News ‘खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी’ लिखने वाली सुभद्रा...

‘खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी’ लिखने वाली सुभद्रा कुमारी चौहान की आज पुण्यतिथि है

0

भारत के किसी भी बच्चे से, खासकर हिंदी भाषी क्षेत्र में, अगर कोई एक कविता सुनाने को कहा जाए तो ज्यादा सम्भावना यही है कि उसके मुंह से ‘खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी’ ही सुनने को मिलेगी. हिंदी साहित्य में इससे लोकप्रिय कविता शायद ही कोई दूसरी हो.

यह एक ऐसी कविता है जिसे पढ़ने या गाने मात्र से ही आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं, मन में वीर रस का संचार हो जाता है. इस कविता को लिखा था सुभद्रा कुमारी चौहान ने, जिनकी आज 15 फरवरी को पुण्यतिथि होती है.

उनका जन्म 16 अगस्त 1904 को इलाहाबाद के निहालपुर गाँव में एक जमींदार परिवार में हुआ था. बचपन से ही उनकी रूचि साहित्य सृजन की ओर होने लगी थी. 1919 में उनका विवाह हुआ और वे जबलपुर रहने आ गईं. उन्होंने अपने पति के साथ स्वाधीनता की लड़ाई में भी भाग लिया और गांधीजी के असहयोग आन्दोलन में शामिल हुईं. 15 फरवरी 1948 में एक कार दुर्घटना में उनकी असमय मृत्यु हो गई.

सुभद्रा कुमारी चौहान ने कविताओं के अलावा साहित्य की अन्य विधाओं में भी लेखन किया. ‘बिखरे मोती’ उनका पहला और सुप्रसिद्ध कहानी संग्रह है. इसके अलावा ‘मुकुल’, ‘खिलौनेवाला’, ‘त्रिधारा’ आदि उनके चर्चित कविता संग्रह हैं.

उनकी सर्वाधिक प्रसिद्ध कविता ‘झांसी की रानी’ है जिसके बोल किसी लोक-काव्य की तरह भारत के लोगों के मानस पटल पर अंकित हो चुके हैं –

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,

गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

भारतीय तटरक्षक बल ने 2006 में अपने एक जहाज का नाम सुभद्रा कुमारी चौहान के सम्मान में उनके नाम पर रखा है. इसके अलावा उनके सम्मान में भारत सरकार द्वारा एक डाक टिकट भी 1976 में जारी किया गया था.

अपनी लेखनी के माध्यम से झांसी की वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की अमर गाथा सुनाकर भारत के जनमानस में स्वाधीनता की ज्योति जगाने वाली महान कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here